Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

“ख़्वाहिशों की दुनिया”

“ख़्वाहिशों की दुनिया”

ख़्वाहिशों की दुनिया अजीब होती है,
जो हर वक्त दिल के करीब होती है;
ये गुजरती भी तो बस वहीं से है,
जहाँ राह में लटक रही सलीब होती है।

– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

6 Likes · 2 Comments · 201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
चक्करवर्ती तूफ़ान को लेकर
*Author प्रणय प्रभात*
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
फ़ितरत अपनी अपनी...
फ़ितरत अपनी अपनी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
।। श्री सत्यनारायण ब़त कथा महात्तम।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
चुका न पाएगा कभी,
चुका न पाएगा कभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की💐
💐मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
सिर्फ चलने से मंजिल नहीं मिलती,
सिर्फ चलने से मंजिल नहीं मिलती,
Anil Mishra Prahari
*
*"मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम"*
Shashi kala vyas
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
लोकतंत्र में शक्ति
लोकतंत्र में शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️आदमी ने बनाये है फ़ासले…
✍️आदमी ने बनाये है फ़ासले…
'अशांत' शेखर
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
Paras Nath Jha
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
"आखिर क्यों?"
Dr. Kishan tandon kranti
कलंकित मानवता
कलंकित मानवता
Shekhar Chandra Mitra
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिखाना ज़रूरी नहीं
दिखाना ज़रूरी नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वृद्धाश्रम
वृद्धाश्रम
मनोज कर्ण
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
बुढ़ापा ! न बाबा न (हास्य-व्यंग्य)
बुढ़ापा ! न बाबा न (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साजन आने वाले हैं
साजन आने वाले हैं
Satish Srijan
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर  में  व्यापार में ।
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर में व्यापार में ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
Kumar lalit
Loading...