Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

ख़त पहुंचे भगतसिंह को

सरदार भगतसिंह
देख रहे हो न
तुम आज के
हिंदुस्तान को
जिस पर तुम्हें था
बहुत भरोसा
क्या हुआ उस
नौजवान को…
(१)
अदब से लेकर
मीडिया और
पुलिस से लेकर
अदालत तक
दो-दो कौड़ी में
बेच रहे सभी
आपने-अपने
ईमान को…
(२)
ठेकेदारों ने
फिर से शुरू की
मज़हब की
बकवास वही
जिसने हमसे
जुदा कर दिया था
काट कर
पाकिस्तान को…
‌ (३)
इससे पहले कि
ख़्वाब तुम्हारे
बन जाएं
मलबे का ढ़ेर
कौन यहां जो
रोके बढ़ कर
नफ़रत के इस
तूफ़ान को…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#हल्ला_बोल #media #विद्रोही
#Secularism #कट्टर #rebel
#अंधभक्त #पाखंड #कुरीति #politics
#आडंबर #अंधविश्वास #हक #lyrics

Language: Hindi
Tag: गीत
101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
तेरी जुस्तुजू
तेरी जुस्तुजू
Shyam Sundar Subramanian
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक मशाल जलाओ तो यारों,
एक मशाल जलाओ तो यारों,
नेताम आर सी
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
Harish Chandra Pande
*सॉंसों में जिसके बसे, दशरथनंदन राम (पॉंच दोहे)*
*सॉंसों में जिसके बसे, दशरथनंदन राम (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
Shweta Soni
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
पूर्वार्थ
'मौन का सन्देश'
'मौन का सन्देश'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
AmanTv Editor In Chief
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
*Relish the Years*
*Relish the Years*
Poonam Matia
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
2443.पूर्णिका
2443.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
Paras Nath Jha
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक  के प्यार में
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक के प्यार में
Manoj Mahato
Loading...