Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल

क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल/गीतिका)
—————————————
1
क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते
तपोभूमि यह भोगी बनकर, लोग यहाँ क्योँ आते
2
यहाँ साधना मेँ रत शंकर, ओमकार को भजते
ब्रह्म-ज्ञान के इच्छुक साधक, यहाँ ब्रह्म को पाते
3
यहाँ बर्फ से ढकी चोटियाँ, निर्मल धारा बहती
यहाँ विलासी-जन विलासिता, सामग्री क्योँ लाते
4
पूजनीय यह वन्दनीय यह, इनको पुष्प समर्पित
इनका रूप अनूप ब्रह्म के, यह स्वरूप कहलाते
5
पर्यावरण प्रदूषित करना, बड़ा पाप है भारी
जिम्मेदार इसी को सब, जल-प्रलय हेतु ठहराते
6
पर्वत-पेड़-नदी के बल पर, जिंदा है यह धरती
अपने पैर कुल्हाड़ी खुद ही, हैँ नादान चलाते
—————————————-
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
Rituraj shivem verma
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
#ज़मीनी_सच
#ज़मीनी_सच
*Author प्रणय प्रभात*
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
वो बचपन का गुजरा जमाना भी क्या जमाना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"एक और दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वादे खिलाफी भी कर,
वादे खिलाफी भी कर,
Mahender Singh
लागे न जियरा अब मोरा इस गाँव में।
लागे न जियरा अब मोरा इस गाँव में।
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
साया
साया
Harminder Kaur
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
रामपुर का किला : जिसके दरवाजों के किवाड़ हमने कभी बंद होते नहीं देखे*
Ravi Prakash
2800. *पूर्णिका*
2800. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौसम मौसम बदल गया
मौसम मौसम बदल गया
The_dk_poetry
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
बाजार आओ तो याद रखो खरीदना क्या है।
Rajendra Kushwaha
There's nothing wrong with giving up on trying to find the a
There's nothing wrong with giving up on trying to find the a
पूर्वार्थ
पुनर्जन्माचे सत्य
पुनर्जन्माचे सत्य
Shyam Sundar Subramanian
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
मुझमें एक जन सेवक है,
मुझमें एक जन सेवक है,
Punam Pande
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
मेरी पहली होली
मेरी पहली होली
BINDESH KUMAR JHA
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
प्यार
प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...