Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2023 · 2 min read

क्रिकेट

बाल कहानी- क्रिकेट
————–

“राज! तू कहाँ जा रहा है, क्या तुझे स्कूल नहीं जाना?” करन अपने मित्र से पूछता है।
“कल से जाऊँगा।” राज ने उत्तर दिया।
“तुम पिछ्ले एक महीने से रोज़ यही कहते हो कि कल से जाऊँगा। आज तुम्हें मेरे साथ स्कूल चलना चाहिए मित्र!”
“करन! आज नहीं जाना है मुझे स्कूल। मैं आज क्रिकेट खेलने पास के मैदान में जा रहा हूँ। मेरी बात मानो, आज तुम भी न जाओ। मैनें अपना बैग एक पेड़ की पत्तियों में छिपा दिया है। लाओ, तुम्हारा बैग भी छुपा दूँ।
तुम डरो नहीं.. कोई नहीं जान पायेगा। स्कूल की छुट्टी के समय हम दोनों लोग वापस आ जायेंगे।”
“नहीं राज! मैं नहीं जाऊँगा। मैं स्कूल जा रहा हूँ।”
“ठीक है। तुम जाओ, पर सोचकर देखो, हम दोनों लोग जब क्रिकेट खेलेंगे तो कितना अच्छा लगेगा।
मैं तो पिताजी से रोज कहता हूँ कि मुझे बैट-बॉल लाकर दो, पर वे नहीं लाते। आज इतना अच्छा मौक़ा मिल रहा है तो कह रहे हो कि स्कूल चलो। मैं स्कूल नहीं जाऊँगा मै चला क्रिकेट खेलने।”
करन मुस्कुराते हुए कहता है कि-, “मित्र राज! क्रिकेट तो तुम प्रतिदिन स्कूल आकर भी खेल के पीरियड में खेल सकते हो और साथ-साथ पढ़ाई भी कर सकते हो। हमें तो स्कूल जाना बहुत अच्छा लगता है।”
“करन! क्या तुम सच कह रहे हो? स्कूल में क्रिकेट!”
“हाँ, मित्र! मैं सच कह रहा हूँ। तुम स्कूल चलकर तो देखो।”
“ठीक है चलो।” राज स्कूल जाने के लिए तैयार हो गया।
स्कूल पहुँचकर राज को पढ़ाई के साथ-साथ स्वादिष्ट भोजन, मस्ती की पाठशाला, रोचक एवं मनोरंजक शैक्षिक गतिविधियाँ, क्रिकेट के साथ-साथ खेल सामग्री का आनन्द मिलता है, जिससे राज बहुत प्रभावित होता है और वह निश्चय करता है कि वह प्रतिदिन विद्यालय आयेगा।

शिक्षा-
हमें इधर-उधर अपना समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। स्कूल हमें सब कुछ देता है।

शमा परवीन
बहराइच उत्तर प्रदेश

1 Like · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
पूर्वार्थ
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
जीवन
जीवन
Santosh Shrivastava
शिक्षा
शिक्षा
Adha Deshwal
2867.*पूर्णिका*
2867.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
Jitendra kumar
"लिहाज"
Dr. Kishan tandon kranti
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
औरत की अभिलाषा
औरत की अभिलाषा
Rachana
🙅याद रहे🙅
🙅याद रहे🙅
*Author प्रणय प्रभात*
अब तुझपे किसने किया है सितम
अब तुझपे किसने किया है सितम
gurudeenverma198
जय हो भारत देश हमारे
जय हो भारत देश हमारे
Mukta Rashmi
इस कदर भीगा हुआ हूँ
इस कदर भीगा हुआ हूँ
Dr. Rajeev Jain
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
Dr. Man Mohan Krishna
*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
VINOD CHAUHAN
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
Loading...