Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

क्रिकेट का पिच,

अहम् इस तरह ,

जा टकराये,

होश हो गया शून्य।

क्रिकेट के पिच पर देखा है ,

ऐसा जोश जुनून ।

बीच खेल के,

तनातनी का,

ऐसा था माहौल, ।

गाली देकर इक दूजे का,

उडा रहे मखौल।

तीखी भाषा,

सार्वजनिक हो,

सोशल मंच पर आई,

इससे भी ,

उन बल्लेबाजों,

ने की खूब कमाई,

अजब समय है ,

ऐसा आया ,

लोग देते दुहाई,

खेल खिलाड़ी,

लडकर भी तो,

करते जेब भराई

2 Likes · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
उफ़,
उफ़,
Vishal babu (vishu)
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
मैं सुर हूॅ॑ किसी गीत का पर साज तुम्ही हो
VINOD CHAUHAN
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
Vicky Purohit
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
Hey....!!
Hey....!!
पूर्वार्थ
इसकी औक़ात
इसकी औक़ात
Dr fauzia Naseem shad
*** बिंदु और परिधि....!!! ***
*** बिंदु और परिधि....!!! ***
VEDANTA PATEL
माँ सरस्वती
माँ सरस्वती
Mamta Rani
3062.*पूर्णिका*
3062.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां भारती से कल्याण
मां भारती से कल्याण
Sandeep Pande
अश्रु की भाषा
अश्रु की भाषा
Shyam Sundar Subramanian
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
Amit Pathak
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
हुआ अच्छा कि मजनूँ
हुआ अच्छा कि मजनूँ
Satish Srijan
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
महाभारत युद्ध
महाभारत युद्ध
Anil chobisa
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
shabina. Naaz
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
Avinash
Avinash
Vipin Singh
अनोखे ही साज़ बजते है.!
अनोखे ही साज़ बजते है.!
शेखर सिंह
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
■ कथनी-करनी एक...
■ कथनी-करनी एक...
*Author प्रणय प्रभात*
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
दुनिया असाधारण लोगो को पलको पर बिठाती है
दुनिया असाधारण लोगो को पलको पर बिठाती है
ruby kumari
Loading...