Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2022 · 1 min read

क्या ज़रूरत थी

थी तेरी हसरत
उसे अपना बनाने की
क्या ज़रूरत थी
ये बात ज़माने को बताने की

चाहत थी तेरी
ज़िंदगी संग उसके बिताने की
क्या ज़रूरत थी
ये बात तुम्हें सबको बताने की

सिर्फ वो तेरी नहीं
सबके लबों पर है अब वही
क्या ज़रूरत थी
महफिल में गज़ल सुनाने की

आदत है जिनकी
शीशे के महलों में रहने की
क्या ज़रूरत थी
उन्हें आईना दिखाने की

भीगी हुई थी वो
बरसात अपने शबाब पर थी
क्या ज़रूरत थी
उसे आज फिर रुलाने की

प्रचार से कुछ नहीं होता
कहते हो, किरदार में दम होना चाहिए
फिर क्या ज़रूरत थी
जगह जगह ये इश्तिहार लगाने की।

Language: Hindi
9 Likes · 994 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हे कान्हा
हे कान्हा
Mukesh Kumar Sonkar
// अगर //
// अगर //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुत दाम हो गए
बहुत दाम हो गए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
gurudeenverma198
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
Shweta Soni
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
फ़ितरत-ए-साँप
फ़ितरत-ए-साँप
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
मनोज कर्ण
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
आस्था और चुनौती
आस्था और चुनौती
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
सत्य कुमार प्रेमी
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
प्रेम में डूबे रहो
प्रेम में डूबे रहो
Sangeeta Beniwal
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
पश्चिम हावी हो गया,
पश्चिम हावी हो गया,
sushil sarna
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
Phool gufran
खून के आंसू रोये
खून के आंसू रोये
Surinder blackpen
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
जीवन
जीवन
Monika Verma
लालच
लालच
Vandna thakur
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...