Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।

ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
बेचैनियों को शब्द, कहाँ अब भाते हैं।
ये कोरे अश्क जो, मन को हल्का कर जाते हैं,
पलकें पलों में, इन्हें भी तो, बोझ समझकर गिराते हैं।
ये तूफ़ान जो, उम्मीदों की कश्तियों को डुबाते हैं,
टकराते हैं साहिलों से तो, खुद को टुकड़ों में पाते हैं।
आश की उड़ान लिए, कुछ पंछी क्षितिज को लांघ जाते हैं,
जख़्मी अपने पंखों को फिर, अपनी हिम्मत में छिपाते हैं।
वक्त की चलती धुरी पर हम, कल के सपने सजाते हैं,
आज की रुस्वाई कर फिर, बीते कल को सहलाते हैं।
ख़्वाहिशें अपनी लाश का, बोझ कुछ यूँ उठाते हैं,
कि भीड़ भरी राहों में भी, कदम तन्हाईयों का साथ निभाते हैं।
दीवार की टूटी ईंटों से, नए घर बन तो जाते हैं,
पर दरार की बेबसी ऐसी, जो रह-रह कर दर्द जगाते हैं।
भोर के ओस की चाह में रातें, आँखों की नींद उड़ाते हैं,
पर कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।

3 Likes · 2 Comments · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
सितम फिरदौस ना जानो
सितम फिरदौस ना जानो
प्रेमदास वसु सुरेखा
संध्या वंदन कीजिए,
संध्या वंदन कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
ग़जब सा सिलसला तेरी साँसों का
Satyaveer vaishnav
"सदियाँ गुजर गई"
Dr. Kishan tandon kranti
*Flying Charms*
*Flying Charms*
Poonam Matia
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
* दिल के दायरे मे तस्वीर बना दो तुम *
* दिल के दायरे मे तस्वीर बना दो तुम *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
कभी उलझन,
कभी उलझन,
हिमांशु Kulshrestha
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चाहे मेरे भविष्य मे वह मेरा हमसफ़र न हो
चाहे मेरे भविष्य मे वह मेरा हमसफ़र न हो
शेखर सिंह
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
कसूर किसका
कसूर किसका
Swami Ganganiya
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*दोहा*
*दोहा*
Ravi Prakash
अपनी सत्तर बरस की मां को देखकर,
अपनी सत्तर बरस की मां को देखकर,
Rituraj shivem verma
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
कितने ही गठबंधन बनाओ
कितने ही गठबंधन बनाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*प्रणय प्रभात*
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आभास " हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...