Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2021 · 1 min read

कुछ न कुछ छूटना तो लाज़मी है।

अचानक से आज यूँ ही ख़्याल आया कि….

अख़बार पढ़ा तो प्राणायाम छूटा,
प्राणायाम किया तो अख़बार छूटा,
दोनों किये तो नाश्ता छूटा,
सब जल्दी जल्दी निबटाये
तो आनंद छूटा,
मतलब…..
कुछ ना कुछ छूटना तो लाज़मी है…!!

जॉब देखो तो परिवार छूट जाता है,
और परिवार देखो तो जॉब छूट जाता है
और दोनों को छोड़ने की कल्पना मात्र से,
लगता है कि रूह छूटी,
कुछ ना कुछ छूटना तो लाजमी है

हेल्दी खाया तो स्वाद छूटा,
स्वाद का खाया तो हेल्थ छूटी,
दोनों किये तो…..
अब इस झंझट में कौन पड़े..!!

मुहब्बत की तो शादी टूटी,
शादी की तो मुहब्बत छूटी
दोनों किये तो वफ़ा छूटी,
अब इस पचड़े में कौन पड़े..!!
मतलब
कुछ ना कुछ छूटना तो लाज़मी है…!!!

जो जल्दी की तो सामान छूट गया,
जो ना की तो ट्रेन छूट गयी,
जो दोनों ना छूटे तो,
विदाई के वक़्त गले मिलना छूट गया,
मतलब…
कुछ ना कुछ छूटना तो लाज़मी है…!!!

औरों का सोचा तो मन का छूटा,
मन का लिखा तो तिस्लिम टूटा,
ख़ैर हमें क्या..
ख़ुश हुए तो हँसी छूटी,
दुःखी हुए तो रुलायी छूट गयी,
मतलब…
कुछ ना कुछ छूटना तो लाज़मी है…!!!

इस छूटने में ही तो पाने की ख़ुशी है,
जिसका कुछ नहीं छूटा,
वो इंसान नहीं मशीन है,
इसलिये कुछ ना कुछ छूटना तो लाज़मी है…!!!

जी लो जी भर कर
क्योंकि एक दिन
ये ज़िन्दगी छूटना भी , लाज़मी है…..ll

Language: Hindi
Tag: लेख
3 Likes · 5 Comments · 2091 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
Er. Sanjay Shrivastava
दुख नहीं दो
दुख नहीं दो
shabina. Naaz
💐अज्ञात के प्रति-134💐
💐अज्ञात के प्रति-134💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कविता
कविता
Rambali Mishra
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सर्वनाम
सर्वनाम
Neelam Sharma
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
AMRESH KUMAR VERMA
हमारा सब्र तो देखो
हमारा सब्र तो देखो
Surinder blackpen
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
ruby kumari
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
पूर्वार्थ
■ लघुकथा / भरोसा
■ लघुकथा / भरोसा
*Author प्रणय प्रभात*
Hello
Hello
Yash mehra
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
शायरी
शायरी
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
आसान नहीं होता...
आसान नहीं होता...
Dr. Seema Varma
*पुराना फोटो(बाल कविता)*
*पुराना फोटो(बाल कविता)*
Ravi Prakash
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
मेरा देश महान
मेरा देश महान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
"तब कोई बात है"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने पल्ले कुछ नहीं पड़ता
अपने पल्ले कुछ नहीं पड़ता
Shekhar Chandra Mitra
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
वृक्षों की सेवा करो, मिलता पुन्य महान।
वृक्षों की सेवा करो, मिलता पुन्य महान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
प्यारी बेटी नितिका को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई
विक्रम कुमार
पर्यावरण
पर्यावरण
Dr Parveen Thakur
नसीब
नसीब
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
Loading...