Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

कुछ काम करो , कुछ काम करो

कुछ काम करो , कुछ काम करो
जग में अपना नाम करो
भाग्य भरोसे मत बैठो तुम
कुछ काम करो , कुछ काम करो

आगे बढ़ना नियति तुम्हारी
कर्म राह प्रधान करो तुम
कुछ काम करो , कुछ काम करो
जग में अपना नाम करो

संकट जीवन में जो आए
कभी ना तू उससे घबराए
जीवन को प्रणाम करो तुम
जग में अपना नाम करो तुम

निंदा में तुम यूं ना उलझो
कठोर वचन तुम यूं ना बोलो
सबका तुम सम्मान करो
सत्कर्म मन ध्यान धरो

कुछ काम करो , कुछ काम करो
जग में अपना नाम करो
भाग्य भरोसे मत बैठो तुम

कुछ काम करो , कुछ काम करो

Language: Hindi
3 Likes · 236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
आ बैठ मेरे पास मन
आ बैठ मेरे पास मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेहनत
मेहनत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उस्ताद नहीं होता
उस्ताद नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
"आखिरी निशानी"
Dr. Kishan tandon kranti
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
फूल खिलते जा रहे
फूल खिलते जा रहे
surenderpal vaidya
नग मंजुल मन भावे
नग मंजुल मन भावे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उच्च पदों पर आसीन
उच्च पदों पर आसीन
Dr.Rashmi Mishra
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पैसा ना जाए साथ तेरे
पैसा ना जाए साथ तेरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राह कठिन है राम महल की,
राह कठिन है राम महल की,
Satish Srijan
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम "नवल" हरदम ।
शेखर सिंह
"ख़्वाब में आने का वादा जो किया है उसने।
*Author प्रणय प्रभात*
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सहारा
सहारा
Neeraj Agarwal
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
*जिंदगी तब तक सही है, देह में उत्साह है (मुक्तक)*
*जिंदगी तब तक सही है, देह में उत्साह है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
एक पराई नार को 💃🏻
एक पराई नार को 💃🏻
Yash mehra
2607.पूर्णिका
2607.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
भोर अगर है जिंदगी,
भोर अगर है जिंदगी,
sushil sarna
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...