Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

कितने बदल गये

क्यों दोष देते हो
अपने को देखो
कितने बदल गये..

आग ने पानी से
आँख ने आँसू से
दीये ने तूफ़ान से
धूप ने बादल से
रूप ने काजल से
हँसी ने अधरों से
शरीर ने चरित्र से
समझौता कर लिया
फिर भी, उलाहना
हम बदल गये…!!

नज़र नज़र का फेर है
अंधों के आगे बटेर है
रात काली भूलकर जो
अरुणिमा आँगन आई
बंटे हुए थे हिस्से सभी
कहीं सुनहरा आँचल
कहीं छांव का बादल
देखा, और चली गई।।

हमने अपने पिता से
और बेटों ने हमसे…
मांगा हक़ तो तौबा..!!
हम नहीं बदले
दुनिया बदल गई !!

सत्य का संधान करते
असत्य का चोला पहने
भेदकर मछली की आँखें
अर्जुन सरीखे बाण लिये
द्रोपदी को जुये में हारकर
क्या तुम नहीं बदले
या हम नहीं बदले..?

आत्मा काटती चिकोटी
बाँटती चीटियां रोटियां
अन्न प्राण का प्रश्न कहाँ
असुरक्षित हैं सब बेटियाँ
महाभारत के इस समर में
कौन बदला, बोलो न..?

हम बदले…?
तुम बदले..?
नज़र बदली..?

पिपासु नेत्रों ने सदा
स्त्री आवरण ही देखे
दोष परिवेश का कहूँ
कोख ने कौरव भी देखे
दृष्टि भेद से द्रष्टान्तर ही
कलियुग के पाप ढोता है

क्षमा करें.. मान्यवर सभी
सीने पर रखा हाथ ही..
अक्सर दगा देता है..?
अब कहो…
कौन बदला..?
सूर्यकान्त द्विवेदी

Language: Hindi
45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
पहले आदमी 10 लाख में
पहले आदमी 10 लाख में
*Author प्रणय प्रभात*
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
सत्य कुमार प्रेमी
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कांटा
कांटा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
मैं
मैं
Ajay Mishra
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है
Amit Pandey
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
नए मौसम की चका चोंध में देश हमारा किधर गया
कवि दीपक बवेजा
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
The_dk_poetry
*उपजा पाकिस्तान, शब्द कैसे क्यों आया* *(कुंडलिया)*
*उपजा पाकिस्तान, शब्द कैसे क्यों आया* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
"मुश्किल है मिलना"
Dr. Kishan tandon kranti
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
Shashi kala vyas
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
शेखर सिंह
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
नदी
नदी
Kumar Kalhans
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
bharat gehlot
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...