Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2022 · 1 min read

* काल क्रिया *

Dr Arun kumar shastri एक अबोध बालक 0 अरुण अतृप्त

* काल क्रिया *

मेरा अनुभव मेरे
प्रारबधिक अनुशासन की
सीमाओं से सीमित हैं ।
अनुशंसा की रेखाओं से
घिरा हुआ अनुशंसित हैं ।
अटल नहीं है कुछ भी जग में
जग तो पल पल बदल रहा ।
जग की इसी प्रतिष्ठित
प्रतिभ प्रतिष्ठा से ।
मन मानव का है भीग रहा
आया था सो चला गया ।
नवनीत उजस फैला नभ में
चहुं और उजाला लाएगा ।
नव अंकुर प्रतिपल धधक रहे
हर तन में शंकित हृदय प्रणय ।
छोटी चिड़िया से फुदकरहे
हर कोई यहाँ फिर भी देखो ।।
कुछ नया खेल दिखलायेगा
ये युग है परिवर्तनशील सदा।।
बस यही सत्य रह जायेगा
बस यही सत्य रह जायेगा ।।

2 Likes · 1 Comment · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
जय लगन कुमार हैप्पी
यही जीवन है
यही जीवन है
Otteri Selvakumar
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
तू सच में एक दिन लौट आएगी मुझे मालूम न था…
Anand Kumar
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
■ अनियंत्रित बोल और बातों में झोल।।
■ अनियंत्रित बोल और बातों में झोल।।
*प्रणय प्रभात*
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
हम सृजन के पथ चलेंगे
हम सृजन के पथ चलेंगे
Mohan Pandey
आओ गुफ्तगू करे
आओ गुफ्तगू करे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शब्दों का झंझावत🙏
शब्दों का झंझावत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इमोशनल पोस्ट
इमोशनल पोस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आम, नीम, पीपल, बरगद जैसे बड़े पेड़ काटकर..
आम, नीम, पीपल, बरगद जैसे बड़े पेड़ काटकर..
Ranjeet kumar patre
“मृदुलता”
“मृदुलता”
DrLakshman Jha Parimal
मन की पीड़ा क
मन की पीड़ा क
Neeraj Agarwal
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
Yogini kajol Pathak
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"खतरनाक"
Dr. Kishan tandon kranti
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
तेरे हम है
तेरे हम है
Dinesh Kumar Gangwar
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शायद ये सांसे सिसक रही है
शायद ये सांसे सिसक रही है
Ram Krishan Rastogi
मन की पीड़ाओं का साथ निभाए कौन
मन की पीड़ाओं का साथ निभाए कौन
Shweta Soni
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
ब्रह्म मुहूर्त में बिस्तर त्याग सब सुख समृद्धि का आधार
पूर्वार्थ
मुक्तक - वक़्त
मुक्तक - वक़्त
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3266.*पूर्णिका*
3266.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
Rajesh Kumar Arjun
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
Loading...