Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

कामनाओं का चक्र व्यूह

कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिपल चलता रहता है
अंतहीन इच्छाओं का, सिलसिला चलता रहता है
कामनाओं का पुतला है, कामनाएं बुनते रहता है
भौतिकवाद अंधानुकरण में, जीवन भर चलते रहता है
असीमित कामनाओं में फंसकर, जीवन इतिश्री कर लेता है
विन परिधि की इच्छाएं, जीवन में दुख का कारण है
सीमित परिधि में जीवन यापन, आनंद और सुख का कारण है
अंतहीन चाह मनुज को, कहां कहां ले जायेगी
इच्छा पूरी न होने पर,क़ोध से स्वयं को जलायेगी
कब तक इच्छाएं पूरी होंगी,या जीवन भर भटकायेंगी?
एक के बाद एक नई, सिलसिला निरंतर जारी है
पूरी होती है एक कामना,नई की फिर तैयारी है
कितनी-कितनी कामनाएं, करता रहता है पागल मन
विवेक रहित दौड़ते रहते, खोता रहता है जीवन धन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
रंगे अमन
रंगे अमन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*जल-संकट (दोहे)*
*जल-संकट (दोहे)*
Ravi Prakash
#लघुकथा / #न्यूज़
#लघुकथा / #न्यूज़
*Author प्रणय प्रभात*
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
Shashi kala vyas
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
बेबाक
बेबाक
Satish Srijan
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
संस्कृति के रक्षक
संस्कृति के रक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ये पांच बातें
ये पांच बातें
Yash mehra
फितरत के रंग
फितरत के रंग
प्रदीप कुमार गुप्ता
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
मुक्ति का दे दो दान
मुक्ति का दे दो दान
Samar babu
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
सूरज को ले आता कौन?
सूरज को ले आता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
"लक्ष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
The enchanting whistle of the train.
The enchanting whistle of the train.
Manisha Manjari
3226.*पूर्णिका*
3226.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
हौसले के बिना उड़ान में क्या
हौसले के बिना उड़ान में क्या
Dr Archana Gupta
Loading...