Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Dec 2022 · 1 min read

कान्हा हम बिसरब नहिं…

कान्हा हम बिसरब नाहि,
(मैथिली गीत)
~~°~~°~~°
कान्हा हम बिसरब नाहि ,
ऊधो, कान्हा हम बिसरब नाहि।
मधुर मिलन रस कान्हा देलक ,
ओकर मोल अनमोल ।
ब्रह्मज्ञान अपनहिं संगि राखु ,
दुख आओर बढ़ाऊ नाहि ।
हे ऊधो, दुख आओर बढ़ाऊ नाहि…

कान्हा हम बिसरब नाहि,
हे ऊधो! कान्हा हम बिसरब नाहि…

हम ब्रज केऽ गोपि मसृण हिअ ,
जानितहुं ई पीड़ा, रास नहि करितहुं ।
कान्हा हास परिहास चितचोर ,
प्रथम मिलापहिं,विरह दुख देलक ।
कहियो सेऽ हम भूलब नाहि ,
हे ऊधो! कहियो सेऽ हम बिसरब नाहि ।

कान्हा हम बिसरब नाहि ,
हे ऊधो! कान्हा हम बिसरब नाहि…

लौटू ऊधो कहु श्यामकेऽ,हालत अछि घनघोर ,
विरह पीड़ा मेऽ कहैत सभ गोपिन,
सन्देश देलक विष घोर।
तत्व ज्ञान हम किछहुँ न जानब,
सगुन रूप तजि निरगुन किया ध्यावब ,
कथमपि करब हम ई नाहि।
सखि हे ! कान्हा बिना हम जिअब नाहि…

कान्हा हम बिसरब नाहि ,
हे ऊधो! कान्हा हम बिसरब नाहि…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ९ /१२/२०२२
पौष, कृष्ण पक्ष,प्रतिपदा ,शुक्रवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail

4 Likes · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
सत्संग संध्या इवेंट
सत्संग संध्या इवेंट
पूर्वार्थ
कहां जाके लुकाबों
कहां जाके लुकाबों
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विचार और भाव-2
विचार और भाव-2
कवि रमेशराज
💐अज्ञात के प्रति-151💐
💐अज्ञात के प्रति-151💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"रेलगाड़ी सी ज़िन्दगी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
* दिल का खाली  गराज है *
* दिल का खाली गराज है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इक तेरे सिवा
इक तेरे सिवा
Dr.Pratibha Prakash
प्यार के लिए संघर्ष
प्यार के लिए संघर्ष
Shekhar Chandra Mitra
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
"कवि के हृदय में"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी शक्ति
नारी शक्ति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
खुदसे ही लड़ रहे हैं।
Taj Mohammad
सफल सारथी  अश्व की,
सफल सारथी अश्व की,
sushil sarna
*दुपहरी जेठ की लेकर, सताती गर्मियाँ आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*दुपहरी जेठ की लेकर, सताती गर्मियाँ आई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
Phool gufran
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
2870.*पूर्णिका*
2870.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेरा मेरा.....एक मोह
तेरा मेरा.....एक मोह
Neeraj Agarwal
तुमने दिल का कहां
तुमने दिल का कहां
Dr fauzia Naseem shad
"दहलीज"
Ekta chitrangini
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
यूँ मोम सा हौसला लेकर तुम क्या जंग जित जाओगे?
यूँ मोम सा हौसला लेकर तुम क्या जंग जित जाओगे?
'अशांत' शेखर
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
शेखर सिंह
जिनके मुताबिक मां को
जिनके मुताबिक मां को
*Author प्रणय प्रभात*
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...