Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2022 · 1 min read

क़िस्मत का सितारा।

क़िस्मत का सितारा गर्दिशों में है।
ये जिन्दगी कैसे बुलंदी पर पहुंचें।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 2 Comments · 190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महाशून्य
महाशून्य
Utkarsh Dubey “Kokil”
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
६४बां बसंत
६४बां बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरु आसाराम बापू
गुरु आसाराम बापू
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
फिर नमी आ गई
फिर नमी आ गई
Dr fauzia Naseem shad
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पहले सा मौसम ना रहा
पहले सा मौसम ना रहा
Sushil chauhan
'वर्दी की साख'
'वर्दी की साख'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हिडनवर्ग प्रपंच
हिडनवर्ग प्रपंच
मनोज कर्ण
दो कदम साथ चलो
दो कदम साथ चलो
VINOD CHAUHAN
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
प्रेम जीवन धन गया।
प्रेम जीवन धन गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
भय की आहट
भय की आहट
Buddha Prakash
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kamal Deependra Singh
*सच पूछो तो बहुत दिया, तुमने आभार तुम्हारा 【हिंदी गजल/गीतिका
*सच पूछो तो बहुत दिया, तुमने आभार तुम्हारा 【हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
कविता
कविता
Rambali Mishra
अभी-अभी
अभी-अभी
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-26💐
💐अज्ञात के प्रति-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वाह नेताजी वाह
वाह नेताजी वाह
Shekhar Chandra Mitra
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
जगदीश शर्मा सहज
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
माँ भारती का अंश वंश
माँ भारती का अंश वंश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...