Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2024 · 1 min read

कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,

कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
ये कैसे काफिले संग सफर है, जिसकी मंजिलें हीं लापता है।
जो उड़ानें आसमानों की हैं, तो डोर ये बेवजह है,
अब किनारों से तौबा कर आये हैं, तो बहने में हीं मजा है।
यूँ तेरा मुझमें मिलना, खुद से रु-ब-रु होने की अदा है,
कायनातों को हुई शिकायत है, ऐसे बना तू मेरा खुदा है।
कहीं रात अंधेरों से भारी है, तो कहीं सुबह को रौशनी की रजा है,
ओस के नमी की एक कीमत है, सितारों की बेवफाई बेख़ता है।
कहीं लम्हों को रोकने की ख़्वाहिश है, तो कहीं ठहरा वक़्त खौफ़जदा है,
ये बेमौसम की आशिक़ी है, जो हर मौसम में लिखती वफ़ा है।
कहीं बर्फ़ीली वादियां हैं, जहां गूंजती मोहब्बत की सदा है,
कुछ रूहों की वापसी तय है, जिनका बिछड़ना कुदरत पर कर्ज बे-अदा है।

1 Like · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
जब बहुत कुछ होता है कहने को
जब बहुत कुछ होता है कहने को
पूर्वार्थ
बिना मांगते ही खुदा से
बिना मांगते ही खुदा से
Shinde Poonam
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
Vicky Purohit
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
मां का हुआ आगमन नव पल्लव से हुआ श्रृंगार
Charu Mitra
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
अनूप अम्बर
दर्द का दरिया
दर्द का दरिया
Bodhisatva kastooriya
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
Arvind trivedi
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
****** मन का मीत  ******
****** मन का मीत ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रोज मरते हैं
रोज मरते हैं
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
Khaimsingh Saini
आ रे बादल काले बादल
आ रे बादल काले बादल
goutam shaw
*मनमौजी (बाल कविता)*
*मनमौजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
Exam Stress
Exam Stress
Tushar Jagawat
2867.*पूर्णिका*
2867.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अभी बाकी है
अभी बाकी है
Vandna Thakur
क्या मेरा
क्या मेरा
Dr fauzia Naseem shad
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
भारत हमारा
भारत हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत सियासत की
फितरत सियासत की
लक्ष्मी सिंह
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सितारे  आजकल  हमारे
सितारे आजकल हमारे
shabina. Naaz
#तेवरी / #अफ़सरी
#तेवरी / #अफ़सरी
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...