करवा चौथ पर एक रचना

सूर्योदय से पहले उठी मैं, किया जलपान मैंने,
जलपान में लिया चूरमा और कुछ मिष्ठान मैंने।

करके स्नान उस प्रभु के नाम की ज्योति जगाई,
पति की लम्बी उम्र का माँगा उनसे वरदान मैंने।

करवा चौथ का रखा व्रत पति परमेश्वर के लिए,
दो बजे सुनी कथा फिर दिया दक्षिणा दान मैंने।

की एक ही प्रार्थना अखंड सुहाग मेरा बना रहे,
सदा रहे सलामत वो, जिन्हें माना है जान मैंने।

हाथों में चूड़ियां, माथे पर बिंदिया बनी रही मेरे,
बनकर धरती उस प्रभु से माँगा आसमान मैंने।

शाम हुई तारे निकले पर निकला देर से चाँद,
देकर चाँद को अर्घ्य किया प्रभु गुणगान मैंने।

पति परमेश्वर, बड़े बुजुर्गों से लिया आशीर्वाद,
पति की आँखों में देखा मेरे लिए सम्मान मैंने।

फिर किया एक साथ भोजन बड़े प्रेम से हमने,
इस तरह सुलक्षणा पुरे कर लिए अरमान मैंने।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 1 Comment · 169 Views
You may also like:
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
हमारी जां।
Taj Mohammad
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H.
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पितृ स्तुति
yadu.dushyant0
ये माला के जंगल
Rita Singh
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
हर रोज योग करो
Krishan Singh
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
अख़बार
आकाश महेशपुरी
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
माँ
Dr Archana Gupta
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
पिता की सीख
Anamika Singh
हे गुरू।
Anamika Singh
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
Loading...