Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2023 · 2 min read

करपात्री जी का श्राप…

करपात्री जी का श्राप…
~~°~~°~~°
श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

भून दिया था गोलियों से पल में ,
जिसने संसद को घेरा था ?
थे वो साधु संत निहत्थे ,
संसद में फिर डर कैसा था ?
लहुलुहान वो गौरक्षक संत थे ,
मानवता का दारुण क्षण कैसा था?
रोती है तब धरा गगन भी ,
जब संतो का दिल रोता है।

श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

गौ गंगा गीता गायत्री ,
संस्कृति का आधार सदियों से ।
वादा करके मुकरा क्यों था ?
जो था संतो का मांग वर्षों से।
आशीर्वाद लिया करपात्री जी से ,
पाना था, सत्ता किस्मत से।
होना था, वही हश्र जो हुआ है,
जब जब मानव यती को छलता है।

श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

झाँको तुम अपने अतीत में ,
सदियों से ये सनातन धरती।
धड़कन में इसके बसता है ,
गौमाता है पुरातन संस्कृति।
गौमाता की अर्चना पूजा ,
गोबर लेप से शुद्ध आंगन है।
रोक सका जो न, इसकी हत्या ,
वो नृप, खुद का ही हंता है ।

श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

याद करो,वो दिन और तिथि को,
अंगरक्षक ने जब गोली मारा था ।
तिथि गोपाष्टमी का दिन था वो ही ,
श्राप पुराना फलित हुआ था।
मत भुलो कोई अपने कर्मों को ,
हमें यही पर चुकाना होगा ।
सत्ता दिए हैं जब रक्षा की खातिर ,
हर माँ की रक्षा करना होगा।
लाओ शीघ्र ही, गौरक्षक बिल को ,
तेरे पास भी वो मौका है ।

श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०२ /०१/२०२३
पौष,शुक्ल पक्ष,एकादशी,सोमवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

Language: Hindi
Tag: कविता
3 Likes · 233 Views
You may also like:
भाव
भाव
ईश्वर चन्द्र
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
सोनम राय
रिद्धि सिद्धि के जन्म दिवस पर
रिद्धि सिद्धि के जन्म दिवस पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्ता
रिश्ता
Dr. Kishan tandon kranti
हजारों  रंग  दुनिया  में
हजारों रंग दुनिया में
shabina. Naaz
***
*** " एक छोटी सी आश मेरे..! " ***
VEDANTA PATEL
* हे सखी *
* हे सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अक्ल के अंधे
अक्ल के अंधे
Shekhar Chandra Mitra
■ एक आलेख : भर्राशाही के खिलाफ
■ एक आलेख : भर्राशाही के खिलाफ
*Author प्रणय प्रभात*
ये संघर्ष
ये संघर्ष
Ray's Gupta
मेरी इबादत
मेरी इबादत
umesh mehra
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
gurudeenverma198
कुछ जुगनू उजाला कर गए।
कुछ जुगनू उजाला कर गए।
Taj Mohammad
💐अज्ञात के प्रति-7💐
💐अज्ञात के प्रति-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ओस की बूँदें - नज़्म
ओस की बूँदें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चलना हमें होगा
चलना हमें होगा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अपकर्म
अपकर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नदिया रोये....
नदिया रोये....
Ashok deep
#शिव स्तुति#
#शिव स्तुति#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पुस्तक समीक्षा-प्रेम कलश
पुस्तक समीक्षा-प्रेम कलश
राकेश चौरसिया
कोशिश पर लिखे अशआर
कोशिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
*वोट फॉर हलवा 【हास्य व्यंग्य】*
*वोट फॉर हलवा 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
Satish Srijan
ज़िन्दगी का रंग उतरे
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
औरत एक अहिल्या
औरत एक अहिल्या
Surinder blackpen
ख़ामोशी से बातें करते है ।
ख़ामोशी से बातें करते है ।
Buddha Prakash
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक घर।
एक घर।
Anil Mishra Prahari
बिहार
बिहार
समीर कुमार "कन्हैया"
तख़्ता डोल रहा
तख़्ता डोल रहा
Dr. Sunita Singh
Loading...