Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2023 · 2 min read

करपात्री जी का श्राप…

करपात्री जी का श्राप…
~~°~~°~~°
श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

भून दिया था गोलियों से पल में ,
जिसने संसद को घेरा था ?
थे वो साधु संत निहत्थे ,
संसद में फिर डर कैसा था ?
लहुलुहान वो गौरक्षक संत थे ,
मानवता का दारुण क्षण कैसा था?
रोती है तब धरा गगन भी ,
जब संतो का दिल रोता है।

श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

गौ गंगा गीता गायत्री ,
संस्कृति का आधार सदियों से ।
वादा करके मुकरा क्यों था ?
जो था संतो का मांग वर्षों से।
आशीर्वाद लिया करपात्री जी से ,
पाना था, सत्ता किस्मत से।
होना था, वही हश्र जो हुआ है,
जब जब मानव यती को छलता है।

श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

झाँको तुम अपने अतीत में ,
सदियों से ये सनातन धरती।
धड़कन में इसके बसता है ,
गौमाता है पुरातन संस्कृति।
गौमाता की अर्चना पूजा ,
गोबर लेप से शुद्ध आंगन है।
रोक सका जो न, इसकी हत्या ,
वो नृप, खुद का ही हंता है ।

श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

याद करो,वो दिन और तिथि को,
अंगरक्षक ने जब गोली मारा था ।
तिथि गोपाष्टमी का दिन था वो ही ,
श्राप पुराना फलित हुआ था।
मत भुलो कोई अपने कर्मों को ,
हमें यही पर चुकाना होगा ।
सत्ता दिए हैं जब रक्षा की खातिर ,
हर माँ की रक्षा करना होगा।
लाओ शीघ्र ही, गौरक्षक बिल को ,
तेरे पास भी वो मौका है ।

श्राप फलित होता है ,
संतो का श्राप फलित होता है…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०२ /०१/२०२३
पौष,शुक्ल पक्ष,एकादशी,सोमवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

Language: Hindi
3 Likes · 475 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
कभी न खत्म होने वाला यह समय
कभी न खत्म होने वाला यह समय
प्रेमदास वसु सुरेखा
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
*डमरु (बाल कविता)*
*डमरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
प्रतिश्रुति
प्रतिश्रुति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*मंगलकामनाऐं*
*मंगलकामनाऐं*
*प्रणय प्रभात*
// स्वर सम्राट मुकेश जन्म शती वर्ष //
// स्वर सम्राट मुकेश जन्म शती वर्ष //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
मई दिवस
मई दिवस
Neeraj Agarwal
थे कितने ख़ास मेरे,
थे कितने ख़ास मेरे,
Ashwini Jha
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गम की मुहर
गम की मुहर
हरवंश हृदय
"गहरा रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
काव्य का राज़
काव्य का राज़
Mangilal 713
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
पूर्वार्थ
3169.*पूर्णिका*
3169.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
श्रीराम किसको चाहिए..?
श्रीराम किसको चाहिए..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
दाम रिश्तों के
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
Neelam Sharma
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे  मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
प्रत्यक्षतः दैनिक जीवन मे मित्रता क दीवार केँ ढाहल जा सकैत
DrLakshman Jha Parimal
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
gurudeenverma198
Loading...