Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

“कभी-कभी”

“कभी-कभी”
कभी-कभी याद आती है
उन लोगों की,
जो समानान्तर रेखाओं की तरह
साथ तो चल सकते हैं
लेकिन मिल नहीं सकते कभी।
-डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति

10 Likes · 5 Comments · 104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
जुगाड़
जुगाड़
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
आपका आकाश ही आपका हौसला है
आपका आकाश ही आपका हौसला है
Neeraj Agarwal
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
लड़ते रहो
लड़ते रहो
Vivek Pandey
*तू भी जनता मैं भी जनता*
*तू भी जनता मैं भी जनता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2759. *पूर्णिका*
2759. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
Ravi Prakash
अपना सफ़र है
अपना सफ़र है
Surinder blackpen
माँ का प्यार है अनमोल
माँ का प्यार है अनमोल
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
वो सुहानी शाम
वो सुहानी शाम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
भोर होने से पहले .....
भोर होने से पहले .....
sushil sarna
"यथार्थ प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"माँ महागौरी"*
Shashi kala vyas
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
* चाहतों में *
* चाहतों में *
surenderpal vaidya
फिर भी तो बाकी है
फिर भी तो बाकी है
gurudeenverma198
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
💐प्रेम कौतुक-364💐
💐प्रेम कौतुक-364💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...