Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2024 · 1 min read

कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।

कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की,
तो कभी एक तलाश तुझसे दूर जाने की।
कभी आयामों में जीवन के खुद को उलझाने की,
तो कभी उस वैराग्य की राहों में खुद को सुलझाने की।
कभी मन के विद्रोह संग खुद को जलाने की,
तो कभी संयम की शीतलता में खुद को डुबाने की।
कभी शून्यता की गहराई में विरक्ति पाने की,
तो कभी संवेदनाओं की धारा में खुद को बहाने की।
कभी अँधेरी रातों में परछाई बन खुद को गंवाने की,
तो कभी तपती दुपहरी की आभा में खुद को जलाने की।
कभी प्रश्न-बाणों की तीक्षणता से खुद को भेद जाने की,
तो कभी शाश्वत-ज्ञान के स्पर्श में खुद को महकाने की।
कभी तीव्र आंधी की गतिशीलता में खुद को उड़ाने की,
तो कभी सागर की तलहटी में खुद को सुलाने की।
कभी ईश्वरीय-प्रकाश की सम्पूर्णता में खुद को सौंप जाने की,
तो कभी तेरे इंतज़ार में जन्मों तक खुद को भटकाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की,
तो कभी एक तलाश तुझसे दूर जाने की

2 Likes · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
Atul "Krishn"
राम : लघुकथा
राम : लघुकथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
संबंधों के नाम बता दूँ
संबंधों के नाम बता दूँ
Suryakant Dwivedi
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
पवनसुत
पवनसुत
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
నమో నమో నారసింహ
నమో నమో నారసింహ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
Taj Mohammad
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
सबसे बड़ा गम है गरीब का
सबसे बड़ा गम है गरीब का
Dr fauzia Naseem shad
तेरी जुस्तुजू
तेरी जुस्तुजू
Shyam Sundar Subramanian
खुशी की खुशी
खुशी की खुशी
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
कभी चुभ जाती है बात,
कभी चुभ जाती है बात,
नेताम आर सी
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
भिनसार हो गया
भिनसार हो गया
Satish Srijan
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एकतरफा प्यार
एकतरफा प्यार
Shekhar Chandra Mitra
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
दहेज की जरूरत नही
दहेज की जरूरत नही
भरत कुमार सोलंकी
Loading...