Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

कब मिलोगी मां…..

तुम बहुत याद आती हो मां!
घर की देहरी पर खड़ी,हम सबकी बाट जोहती
तुम्हारी निगाहें,
शाम को घर वापस लौटते ही
तुम्हारा स्नेहसिक्त आलिंगन
मानो दिन भर की थकान को चूर-चूर कर देता

तुम मां थी और मैं बेटी
आज मैं मां हूं, स्थिति और स्थान बदल गये है मां।
बच्चों की प्रतीक्षारत आंखें
मुझमें नई ऊर्जा का संचार तो करती हैं
पर-
चाय पियोगी या कुछ खाने को लाऊं
ऐसी मनुहार कोई नहीं करता मां,

बीमार होने पर चारपाई के सिरहाने बैठ
बार-बार कभी माथा सहलाती
घबराहट में कभी नज़र उतारती
ज्वर की तपिश दूर करने को अब
कोई आंचल से हवा नहीं करता मां

मायके से जाते वक्त
आशीर्वाद और नसीहतों की पोटली के साथ
चोरी से मुट्ठी में अब नोट
कोई नहीं देता मां

जानती हूं कि तुम अब भी
दूर से ही सही पर
मेरी फिक्र करती हो,
त्यौहार हो या अतिथि सत्कार
कुछ भूला हमेशा याद दिला देती हो मां

हर सुख –दुःख में,
रसोई से लेकर मेरे संस्कारों में
पूजा, वंदना से लेकर तुलसी के चौरे तक
तुम्हें ढूढ़ती हूं मांssssss
फिर कब मिलोगी मां!

Language: Hindi
374 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
सरल जीवन
सरल जीवन
Brijesh Kumar
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तंज़ीम
तंज़ीम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ईद की दिली मुबारक बाद
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
*चलो खरीदें कोई पुस्तक, फिर उसको पढ़ते हैं (गीत)*
*चलो खरीदें कोई पुस्तक, फिर उसको पढ़ते हैं (गीत)*
Ravi Prakash
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
Aryan Raj
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
वज़ूद
वज़ूद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
क्रिकेट का पिच,
क्रिकेट का पिच,
Punam Pande
रिश्तों का एहसास
रिश्तों का एहसास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहे... चापलूस
दोहे... चापलूस
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
"साहस"
Dr. Kishan tandon kranti
कल की फिक्र में
कल की फिक्र में
shabina. Naaz
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
😊संशोधित कविता😊
😊संशोधित कविता😊
*Author प्रणय प्रभात*
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
Shyam Sundar Subramanian
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...