Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

कब तक बचोगी तुम

कब तक बचोगी तुम, मेरी नजरों से यारा मेरी नजरों से
कब तक छुपोगी तुम, अपनी जुल्फों से यारा अपनी जुल्फों से प्यार इतना हो गया की दूर तुमसे रहा जाए ना
तेरी नजरों से यारा तेरी जुल्फों से ।

मिन्नतें मेरी ठुकराओ ना, फूलों को यू मुरझाओ ना
ना शरारत करो इतना मेरे साथ तुम, मै हु भोले भाले
ना हो भोली भाली तुम ना हो भोली भाली तुम
कब तक भींगोगी तुम
अपनी अश्कों से यारा अपनी अस्को से
कब तक जियोगी तुम इन लम्हों से यारा इन लम्हों से
कब तक……….

कुछ एसे हरकतें कर दो मेरे लिए
आया ह मैं जानम तेरे लिए
मानो मेरी बात तुम जिद्द अपनी छोर दो
जा अपनी जान तुम कोई और ढूंढ लो कोई और ढूंढ लो
कब तक करोगी तुम इन नखरों को यारा इन नखरों को यारा
कब तक सहेजू मै इन सपनों को यारा इन सपनों को
प्यार इतना……….

✍️ बसंत भगवान राय

Language: Hindi
214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
सुबह का खास महत्व
सुबह का खास महत्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
Rekha khichi
"किसी दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* विजयदशमी *
* विजयदशमी *
surenderpal vaidya
मेरी पहली चाहत था तू
मेरी पहली चाहत था तू
Dr Manju Saini
किसी शायर का ख़्वाब
किसी शायर का ख़्वाब
Shekhar Chandra Mitra
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
मां
मां
Amrit Lal
जिंदगी हवाई जहाज
जिंदगी हवाई जहाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
जिंदगी में.....
जिंदगी में.....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब अपने सामने आते हैं तो
जब अपने सामने आते हैं तो
Harminder Kaur
अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है
अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है
Ravi Prakash
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
जिसने अपनी माँ को पूजा
जिसने अपनी माँ को पूजा
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
बाज़ार से कोई भी चीज़
बाज़ार से कोई भी चीज़
*Author प्रणय प्रभात*
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
Shweta Soni
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-556💐
💐प्रेम कौतुक-556💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
बिजली कड़कै
बिजली कड़कै
MSW Sunil SainiCENA
Loading...