Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2023 · 1 min read

“कथरी”

“कथरी”
चाहे कोई कमजोर कह ले
या फिर शक्तिशाली,
संस्कारों में रच-बस गई ऐसी
वो खत्म न होने वाली।
हर हाल में कथरी
ठण्ड से जंग लड़ती है,
लेकिन कभी भी वो
उफ्फ तक नहीं कहती है।

6 Likes · 2 Comments · 444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
"अगर तू अपना है तो एक एहसान कर दे
कवि दीपक बवेजा
*गाता मन हर पल रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*गाता मन हर पल रहे, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
Johnny Ahmed 'क़ैस'
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
बिजली कड़कै
बिजली कड़कै
MSW Sunil SainiCENA
सताया ना कर ये जिंदगी
सताया ना कर ये जिंदगी
Rituraj shivem verma
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
VINOD CHAUHAN
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
Bodhisatva kastooriya
विज्ञापन
विज्ञापन
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
Neeraj Agarwal
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Chehre se sundar nhi per,
Chehre se sundar nhi per,
Vandana maurya
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
तुझे कैसे बताऊं तू कितना खाश है मेरे लिए
yuvraj gautam
3228.*पूर्णिका*
3228.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*रिश्ते*
*रिश्ते*
Dushyant Kumar
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Ankita Patel
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
जीवन तब विराम
जीवन तब विराम
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
पूर्वार्थ
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
"सुर्खी में आने और
*Author प्रणय प्रभात*
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
gurudeenverma198
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
Anil chobisa
Loading...