Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2022 · 1 min read

ऐसे हंसते रहो(14 नवम्बर बाल दिवस पर)

ऐसे हंसते रहो , यूँ हंसाते रहो ।
गुनगुनाते रहो , गीत गाते रहो ।।
अच्छा लगता है, दिल भी लगता है ।
तुम जो हंसते हो , गम भी मिटता है ।।
ऐसे हंसते रहो —————————–।

यह गुलशन हंसा है , तुम्हे देखकर ।
आसमां भी झुका है , तुम्हे देखकर ।।
ये चली है बहारें , तुम्हे देखकर ।
यह हुआ है सवेरा , तुम्हे देखकर ।।
ऐसे खिलते रहो ,यूँ मचलते रहो ।
अच्छा लगता है , दिल भी लगता है ।।
तुम जो हंसते हो , गम भी मिटता है ।
ऐसे हंसते रहो —————————-।।

आने वाले कल की, तुम तस्वीर हो ।
इस वतन की नयी तुम, तकदीर हो ।।
मोड़ दे जो राह , बहते नीर की ।
चीर दे जो पहाड़ , तुम वो वीर हो ।।
मुस्कराते हुए ऐसे बढ़ते रहो ।
अच्छा लगता है , दिल भी लगता है ।।
तुम जो हंसते हो , गम भी मिटता है ।
ऐसे हंसते रहो ————————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
आँख दिखाना आपका,
आँख दिखाना आपका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
नए मुहावरे में बुरी औरत / MUSAFIR BAITHA
नए मुहावरे में बुरी औरत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
राजनीतिक यात्रा फैशन में है, इमेज बिल्डिंग और फाइव स्टार सुव
Sanjay ' शून्य'
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
gurudeenverma198
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तू याद कर
तू याद कर
Shekhar Chandra Mitra
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
टाँग इंग्लिश की टूटी (कुंडलिया)
टाँग इंग्लिश की टूटी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्रकृति का बलात्कार
प्रकृति का बलात्कार
Atul "Krishn"
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
ऐलान कर दिया....
ऐलान कर दिया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
■ आई बात समझ में...?
■ आई बात समझ में...?
*Author प्रणय प्रभात*
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
2866.*पूर्णिका*
2866.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आग़ाज़
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दाना
दाना
Satish Srijan
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
श्री राम अयोध्या आए है
श्री राम अयोध्या आए है
जगदीश लववंशी
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
सत्य तो सीधा है, सरल है
सत्य तो सीधा है, सरल है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
भारी संकट नीर का, जग में दिखता आज ।
Mahendra Narayan
Loading...