Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2023 · 1 min read

एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!

एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं
ज़हन में उनकी बातें और रातों में उनके ख़ाब रखते हैं
ऎसा लगता हैं याद करते करते उन्हें, कहीं मर ही ना जाए एक दिन हम
इसलिए! बटुए में पहले से ही, अपनी मौत का समान रखते हैं!

The_dk_poetry

1 Like · 260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
कवि रमेशराज
संकट..
संकट..
Sushmita Singh
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
खोते जा रहे हैं ।
खोते जा रहे हैं ।
Dr.sima
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
पौधे मांगे थे गुलों के
पौधे मांगे थे गुलों के
Umender kumar
Happy new year 2024
Happy new year 2024
Ranjeet kumar patre
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
सत्य कुमार प्रेमी
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2876.*पूर्णिका*
2876.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
मैंने इन आंखों से गरीबी को रोते देखा है ।
Phool gufran
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
तुझसे रिश्ता
तुझसे रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
चिल्हर
चिल्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
Ravi Prakash
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
पिता,वो बरगद है जिसकी हर डाली परबच्चों का झूला है
शेखर सिंह
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
Loading...