Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 2 min read

एक नायक भक्त महान 🌿🌿

एक नायक देश भक्त महान
🌿🇮🇳🌿👉🔥🐚✈️

गुरु का मतलब बड़ा महान
माता पिता छोड़ इक जन

गुरु से बड़ा ना कोई जग में
ज्ञान खोज मे निकले शिष्य

विवेकानंद नरेंद्र एक महान
गांव गांव शहर नगर नगर

नदी नाले सागर तट होकर
कंकड़ पत्थर चट्टानों पर भूखे

प्यासे नंगे पद पथ रात दिन
निरंतर चल गामी खोज लिया

ब्रह्मचारी ब्रह्माण्डी चमत्कारी
गुरु मिला गंगा नद्य तट पर

शांत सौम्य मृदुल शिष्टाचारी
आ जा नरेंद्र तेरी इंतज़ार में था

अनजाने से निज नाम सुन
चक्कराया शिष्य अनजान

दंडवत कर प्रणाम रामकृष्ण
परमहंस अंतर्यामी एक नामी

गुरु के शिष्य बने पथ गामी
ज्ञान खातिर छोड़ चले राजवाड़े

वैभव विशाल नंगे पद कदमों
से नाप रहे पथ कांटे हटा ज्ञान

सत्य दर्शन करा बन गए एक
जननायक ब्रह्मचारी विवेकानंद

धरतीपुत्र शक्तिशाली शिष्य जो
थे सेना नायक देश भक्त महान

दूर देश जाकर पश्चिम में संघर्षों
से व्याख्यान एक अवसर पाया

कक्ष में गोरे जनों को नहीं भाया
बोला ये साधु संन्यासी का कोई

मंच नहीं अर्द्ध वस्त्रधारी है कौन
यहां असमंजस में पड़े गोरे तभी

गूंजी मधुर वाणी एक ध्वनि वहां
हाथ जोड़ बोले रहे भक्त महान

मेरे प्यारे भाई बहन माता पिता
इस देश के प्यारे जन सन्यासी

का करें प्रणाम स्वीकार दूर देश
भारत माता ने बड़ी आशा से

भेजा यहां भारत भारती संदेश
सुनाने आप विद्वतजनों के पास

आज्ञा पा व्याख्यान शुरू किया
शून्य पर सात दिन और सात रात

चिनगारी सी फैली भारत ज्ञान
हिन्दुस्तानी ज्ञान से नतमस्तक हो
घबरा उठा सारा इंगलीशस्तान

परतंत्रता के सहस्त्र ताली से
स्वतंत्रता देवी की जग गई

स्वतंत्र होने की आस अरमान
लाल ने भर दिया शक्ति संचार

भारत को विश्व गुरु बनने की
राहो पर अब बढ गए गोरे पाद
तू आजादी दो मैं खून दुंगा

हुंकार सुन हिल गया क्षण में
पूरा इंगलीश व इंगलीशस्तान

भारत ने अपनी शक्ति पहचान
एकजुट हो हाथ लिए स्वतंत्रता

झण्डा निकल पड़े सारे जन जहां
जय भारत जय भारतीय ध्वनि

हुँकार सुन अंग्रेजों भारत छोड़ यहां
स्वतंत्रता की क्रांति जगा लाल ने

अंगार सुलग चिनगारी फैल गयी
जन गण मन गांव कस्बे नगरों में

एक साथ बोल उठा देश हमारा
जय भारत जय हिन्दुस्तान

छोड़ अंग्रेज मेरा देश भारत महान
जल्दी भागो यहां से इंगलीशस्तान

सतत् परिश्रम बलिदानों से बेड़ी
तोड़ परतंत्रता की पायी स्वतंत्रता

स्वच्छंद विचरन करते हिंद जन पूरे
हिंदुस्तान मेरा भारत है महान

परमहंस शिष्य आज्ञाकारी सदाचारी
देश भक्त हुए सफल विवेकानंद महान

🌿🌿🌿🇮🇳🌿🌿🌿🌿♥️🌿🌿

तारकेश्‍वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
* संसार में *
* संसार में *
surenderpal vaidya
पतंग
पतंग
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
नारी का क्रोध
नारी का क्रोध
लक्ष्मी सिंह
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
Arvind trivedi
ज़िंदगी के सवाल का
ज़िंदगी के सवाल का
Dr fauzia Naseem shad
#हिरोशिमा_दिवस_आज
#हिरोशिमा_दिवस_आज
*प्रणय प्रभात*
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
"वक्त-वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी (ग्राम) पीड़ा
मेरी (ग्राम) पीड़ा
Er.Navaneet R Shandily
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
Shweta Soni
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*स्वर्ग लोक से चलकर गंगा, भारत-भू पर आई (गीत)*
*स्वर्ग लोक से चलकर गंगा, भारत-भू पर आई (गीत)*
Ravi Prakash
3228.*पूर्णिका*
3228.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
कहते हैं संसार में ,
कहते हैं संसार में ,
sushil sarna
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
मात्र नाम नहीं तुम
मात्र नाम नहीं तुम
Mamta Rani
विरक्ती
विरक्ती
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...