Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

एक चिडियाँ पिंजरे में 

एक पिंजरे की

मजबूर चिडियाँ सी

वो ,,

अपने पंखों को

सिकोड लेती है

फडफडाने से पहले।

वो किसी कुएँ की

मेंढकी सी

रोक लेती है

अपने फुदकने

वाले भाव को ,

और बस गोल- गोल

घूमती रहती है।

मजे से अपने कूप में ।

वो एक पोखर की

मछली सी ,

आँखे बंद कर

भी ,

बता सकती है

अपने तैरने की सीमा,

इस तरह,

अपने घरौदे की

खिड़की से

बस झाँक कर

देख लेती है

उन्मुक्त पंछियों को,

बादलों को,

हवाई जहाज को ।

सडक पर हो हो करके

दोस्तो संग

ताली बजाकर

हंसते पुरुषों की आवाज सुनकर

तुरंत, खिड़की बंद कर देती है।

कि, कहीं

वो भी

बगावत न कर बैठे ।

इस तरह

उसके भीतर

सुरक्षित रहती है

एक चिडिया

एक मछली ।

और,

एक मेढकी।

समाप्त

कविता पूनम पांडे

2 Likes · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
फिलिस्तीन इजराइल युद्ध
फिलिस्तीन इजराइल युद्ध
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
Aryan Raj
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ होली का हुल्लड़...
■ होली का हुल्लड़...
*Author प्रणय प्रभात*
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
ऐ जिंदगी....
ऐ जिंदगी....
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
प्रकृति का विनाश
प्रकृति का विनाश
Sushil chauhan
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
अनिल कुमार
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जल्दी-जल्दी  बीत   जा, ओ  अंधेरी  रात।
जल्दी-जल्दी बीत जा, ओ अंधेरी रात।
दुष्यन्त 'बाबा'
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
स्वयं को तुम सम्मान दो
स्वयं को तुम सम्मान दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"रहबर"
Dr. Kishan tandon kranti
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
भक्त कवि श्रीजयदेव
भक्त कवि श्रीजयदेव
Pravesh Shinde
2874.*पूर्णिका*
2874.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
बन रहा भव्य मंदिर कौशल में राम लला भी आयेंगे।
बन रहा भव्य मंदिर कौशल में राम लला भी आयेंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पत्थरवीर
पत्थरवीर
Shyam Sundar Subramanian
अनिल
अनिल "आदर्श "
Anil "Aadarsh"
अधर्म का उत्पात
अधर्म का उत्पात
Dr. Harvinder Singh Bakshi
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वीर तुम बढ़े चलो...
वीर तुम बढ़े चलो...
आर एस आघात
कल पर कोई काम न टालें
कल पर कोई काम न टालें
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...