Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

एक ख़्वाब की सी रही

वो कड़वी हक़ीक़त जिसकी नहीं तर्जुमानी ।
एक ख़्वाब की सी रही बस मेरी ज़िन्दगानी ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
10 Likes · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
सरकार बिक गई
सरकार बिक गई
साहित्य गौरव
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
तस्वीरों में मुस्कुराता वो वक़्त, सजा यादों की दे जाता है।
Manisha Manjari
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
चलना सिखाया आपने
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
वाचाल पौधा।
वाचाल पौधा।
Rj Anand Prajapati
जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर  स्वत कम ह
जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर स्वत कम ह
पूर्वार्थ
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
मेरी बेटी मेरा अभिमान
मेरी बेटी मेरा अभिमान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ताकि वो शान्ति से जी सके
ताकि वो शान्ति से जी सके
gurudeenverma198
वादी ए भोपाल हूं
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
3376⚘ *पूर्णिका* ⚘
3376⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#शीर्षक-प्यार का शक्ल
#शीर्षक-प्यार का शक्ल
Pratibha Pandey
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
सिय का जन्म उदार / माता सीता को समर्पित नवगीत
सिय का जन्म उदार / माता सीता को समर्पित नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
10. जिंदगी से इश्क कर
10. जिंदगी से इश्क कर
Rajeev Dutta
अधूरी तमन्ना (कविता)
अधूरी तमन्ना (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"दस ढीठों ने ताक़त दे दी,
*Author प्रणय प्रभात*
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...