Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

ऋतुराज बसंत

ऋतुराज बसंत
ऋतुराज संग जब आती है ये हरियाली,
फिर से सजती है पेड़ों की हर डाली,
नई उमंग आती है, बसंत के आ जाने से,
कोयल भी कुहु~कुहु करती डाली~डाली।

बसंत पंचमी बसंत का ‌ पहला त्यौहार है,
महाशिवरात्रि में महाकाल जी का प्यार है,
होली करे हमारे सभी विपत्ति का विनाश,
मधुमास संग अपने लाई उमंग की ब्यार है।
-©♪अभिषेक श्रीवास्तव “शिवाजी”
जिला- अनूपपुर हृदय प्रदेश

2 Likes · 486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य दीप जलता हुआ,
सत्य दीप जलता हुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पुरूषो से निवेदन
पुरूषो से निवेदन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्रतिबद्ध मन
प्रतिबद्ध मन
लक्ष्मी सिंह
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
जज़्बात
जज़्बात
Neeraj Agarwal
नेता जी शोध लेख
नेता जी शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Passion for life
Passion for life
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कितना कुछ सहती है
कितना कुछ सहती है
Shweta Soni
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
तेरी कमी......
तेरी कमी......
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
छंद मुक्त कविता : बचपन
छंद मुक्त कविता : बचपन
Sushila joshi
"माँ का आँचल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
तुम
तुम
हिमांशु Kulshrestha
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
इस मोड़ पर
इस मोड़ पर
Punam Pande
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
3157.*पूर्णिका*
3157.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
Arvind trivedi
*अपने पैरों खड़ी हो गई (बाल कविता)*
*अपने पैरों खड़ी हो गई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
Rj Anand Prajapati
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
Shubham Pandey (S P)
Ice
Ice
Santosh kumar Miri
Dilemmas can sometimes be as perfect as perfectly you dwell
Dilemmas can sometimes be as perfect as perfectly you dwell
Sukoon
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
मेरी जाति 'स्वयं ' मेरा धर्म 'मस्त '
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...