Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

!! उमंग !!

बे रोक टोक सा जीवन हो
उस जीवन में कुछ सपने हों

हर सपना हो खुद में जीवन
हर सपने में सब अपने हों

सपनों की उस फुलवारी में
जज़्बातों का हो निर्मल जल

उस निर्मल जल से सीचें सपनें
जिससे महके फिर अपना कल

हर कल में हो कलरव अपार
खुशियाँ हों जिसमे बेशुमार

खुशियों के उस नभ अम्बर में
चाहत के कुछ एक पक्षी हों

जो उड़े नए नित भोर गगन को
जैसे कि कोई कोयल हो

बे रोक टोक सा जीवन हो
उस जीवन में कुछ सपने हों

!! आकाशवाणी !!

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
करने दो इजहार मुझे भी
करने दो इजहार मुझे भी
gurudeenverma198
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बेचारी माँ
बेचारी माँ
Shaily
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
अकेला हूँ ?
अकेला हूँ ?
Surya Barman
"वक्त वक्त की बात"
Pushpraj Anant
नौजवान सुभाष
नौजवान सुभाष
Aman Kumar Holy
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
बड़ी अजब है प्रीत की,
बड़ी अजब है प्रीत की,
sushil sarna
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
Dr. Narendra Valmiki
संसार में सबसे
संसार में सबसे "सच्ची" वो दो औरतें हैं, जो टीव्ही पर ख़ुद क़ुब
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
Ahtesham Ahmad
अब किसी की याद नहीं आती
अब किसी की याद नहीं आती
Harminder Kaur
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आपकी यादें
आपकी यादें
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"" *नवीन नवनीत* ""
सुनीलानंद महंत
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
मेवाडी पगड़ी की गाथा
मेवाडी पगड़ी की गाथा
Anil chobisa
प्रार्थना
प्रार्थना
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
कोई मोहताज
कोई मोहताज
Dr fauzia Naseem shad
दूर की कौड़ी ~
दूर की कौड़ी ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
3146.*पूर्णिका*
3146.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...