Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-469💐

उन चिरागों का क्या वास्ते उनके, दिल में जलाया,
इक वो ही हैं जिन्हें अपने दिल में मुक्कदस बसाया,
ये सब अपने-अपने दर्द बयाँ कर रहे हैं अब सुनलो,
ये मतलबी है कोई, क्यूँ इससे अपना वक़्त बिताया।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: Hindi Quotes, Quote Writer
6 Views
You may also like:
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जख्म के दाग हैं कितने मेरी लिखी किताबों में /
जख्म के दाग हैं कितने मेरी लिखी किताबों में /"लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
विषाद
विषाद
Saraswati Bajpai
■ उत्सवी सप्ताह....
■ उत्सवी सप्ताह....
*Author प्रणय प्रभात*
*Success_Your_Goal*
*Success_Your_Goal*
Manoj Kushwaha PS
दिल की ख़लिश
दिल की ख़लिश
Shekhar Chandra Mitra
🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
Ankit Halke jha
मैं सरकारी बाबू हूं
मैं सरकारी बाबू हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेकाबू हुआ है ये दिल तड़पने लगी हूं
बेकाबू हुआ है ये दिल तड़पने लगी हूं
Ram Krishan Rastogi
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
'अशांत' शेखर
अवसान
अवसान
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-343💐
💐प्रेम कौतुक-343💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पश्चाताप
पश्चाताप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या हार जीत समझूँ
क्या हार जीत समझूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
प्यार -ए- इतिहास
प्यार -ए- इतिहास
Nishant prakhar
मां का घर
मां का घर
Yogi B
दुःख का कारण बन जाते हैं
दुःख का कारण बन जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
रहे न अगर आस तो....
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"ये लालच"
Dr. Kishan tandon kranti
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
Aditya Prakash
हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं
हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं
कवि दीपक बवेजा
नई दिल्ली
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
*किसे पता क्या आयु लिखी है, दिवस तीन या चार (गीत)*
*किसे पता क्या आयु लिखी है, दिवस तीन या चार...
Ravi Prakash
परवाना ।
परवाना ।
Anil Mishra Prahari
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से हम जान सकें !
हम चाहते हैं कि सबसे संवाद हो ,सबको करीब से...
DrLakshman Jha Parimal
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
रिश्ते
रिश्ते
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
करते रहे हो तुम शक हम पर
करते रहे हो तुम शक हम पर
gurudeenverma198
ग़ज़ल- मेरे दिल की चाहतों ने
ग़ज़ल- मेरे दिल की चाहतों ने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
धोखे से मारा गद्दारों,
धोखे से मारा गद्दारों,
Satish Srijan
Loading...