Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-478💐

उनका तिर जाना और डूबना मेरे दिल के दरिया में,
रिमझिम बरसते हैं ख़्वाब उनके,मेरे दिल के दरिया में,
इनसे मिरी जाँ में जाँ कई बार आती है ग़ौर करिएगा,
शर्माते क्यों हैं,वो खुलकर आएँ मेरे दिल के दरिया में।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
कवि दीपक बवेजा
महसूस किए जाते हैं एहसास जताए नहीं जाते.
महसूस किए जाते हैं एहसास जताए नहीं जाते.
शेखर सिंह
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
VINOD CHAUHAN
दिल में गहराइयां
दिल में गहराइयां
Dr fauzia Naseem shad
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
दूर चकोरी तक रही अकास...
दूर चकोरी तक रही अकास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
"सड़क"
Dr. Kishan tandon kranti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
Phool gufran
तन्हाई ही इंसान का सच्चा साथी है,
तन्हाई ही इंसान का सच्चा साथी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
जीवन में समय होता हैं
जीवन में समय होता हैं
Neeraj Agarwal
कलयुग और सतयुग
कलयुग और सतयुग
Mamta Rani
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
*प्रणय प्रभात*
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
एक कमबख्त यादें हैं तेरी !
The_dk_poetry
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
काव्य में सहृदयता
काव्य में सहृदयता
कवि रमेशराज
Loading...