Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-478💐

उनका तिर जाना और डूबना मेरे दिल के दरिया में,
रिमझिम बरसते हैं ख़्वाब उनके,मेरे दिल के दरिया में,
इनसे मिरी जाँ में जाँ कई बार आती है ग़ौर करिएगा,
शर्माते क्यों हैं,वो खुलकर आएँ मेरे दिल के दरिया में।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: Hindi Quotes, Quote Writer
5 Views
You may also like:
क्या दिखेगा,
क्या दिखेगा,
pravin sharma
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण...
Seema Verma
जरिया
जरिया
Saraswati Bajpai
जोशीमठ
जोशीमठ
Dr Archana Gupta
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
■ ख़ुद की निगरानी
■ ख़ुद की निगरानी
*Author प्रणय प्रभात*
रोना
रोना
Dr.S.P. Gautam
पितृ देव
पितृ देव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द
दर्द
Rekha Drolia
आँखों की बरसात
आँखों की बरसात
Dr. Sunita Singh
कट रही हैं दिन तेरे बिन
कट रही हैं दिन तेरे बिन
Shakil Alam
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
Sonu sugandh
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sakshi Tripathi
दिवाली है
दिवाली है
शेख़ जाफ़र खान
जल
जल
मनोज कर्ण
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
gurudeenverma198
दिल का दर्द आँख तक आते-आते नीर हो गया ।
दिल का दर्द आँख तक आते-आते नीर हो गया ।
Arvind trivedi
आंसूओं से
आंसूओं से
Dr fauzia Naseem shad
खप-खप मरता आमजन
खप-खप मरता आमजन
विनोद सिल्ला
आखरी उत्तराधिकारी
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
मर्द को दर्द नहीं होता है
मर्द को दर्द नहीं होता है
Shyam Sundar Subramanian
कहां पता था
कहां पता था
dks.lhp
💐अज्ञात के प्रति-29💐
💐अज्ञात के प्रति-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जमातों में पढ़ों कलमा,
जमातों में पढ़ों कलमा,
Satish Srijan
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
'अशांत' शेखर
नशा - 1
नशा - 1
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*दो हास्य कुंडलियाँ*
*दो हास्य कुंडलियाँ*
Ravi Prakash
पात्र (लोकमैथिली कविता)
पात्र (लोकमैथिली कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अपनों की खातिर कितनों से बैर मोल लिया है
अपनों की खातिर कितनों से बैर मोल लिया है
कवि दीपक बवेजा
Loading...