Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

ईश्वर, कौआ और आदमी के कान

ईश्वर को गढ़ने वाले आदमी ने बताया
ईश्वर ने दुनिया बनाई है
दुनियाभर के जीव जंतु बनाए हैं
उनके गुण अवगुण भी निर्धारित करता है वह
चलाता है उन्हें
लोगों ने मान लिया कि
कोई कौआ उनके कान लेकर
भाग गया है
दौड़ रहे हैं वे सदियों से
अपने अपने कौए के पीछे
बस, अपने कान की सलामती की जाँच
हाथ से टो कर उन्हें करने नहीं आया!

Language: Hindi
1 Like · 235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
व्यापार नहीं निवेश करें
व्यापार नहीं निवेश करें
Sanjay ' शून्य'
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
तुम खेलते रहे बाज़ी, जीत के जूनून में
Namrata Sona
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
शेखर सिंह
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
शाम
शाम
N manglam
ओ पथिक तू कहां चला ?
ओ पथिक तू कहां चला ?
Taj Mohammad
"कौन हूँ मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
निर्णय
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
*तू ही  पूजा  तू ही खुदा*
*तू ही पूजा तू ही खुदा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खरी - खरी
खरी - खरी
Mamta Singh Devaa
कल्पना ही हसीन है,
कल्पना ही हसीन है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
मनोज कर्ण
झूठा घमंड
झूठा घमंड
Shekhar Chandra Mitra
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
😢नारकीय जीवन😢
😢नारकीय जीवन😢
*Author प्रणय प्रभात*
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
पूर्वार्थ
जब तुम मिलीं - एक दोस्त से सालों बाद मुलाकात होने पर ।
जब तुम मिलीं - एक दोस्त से सालों बाद मुलाकात होने पर ।
Dhriti Mishra
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
Suryakant Dwivedi
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Satish Srijan
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
माँ तेरे चरणों
माँ तेरे चरणों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...