Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA

ईश्वर के रहते भी
मंदिर के प्रांगण के भीतर भी
क्यों कुचलकर हो जाती है
भक्तों की असमय दर्दनाक मौत अंग-भंग
बदहवास भगदड़ की जद में आकर
मंदिर की भगवत रक्षित देहरी पर ही

ईश्वर के रहते भी
क्यों जनम जनम का अपराधी
और कुकर्मी भी बना जाता है
ईश्वर के नाम
कोई भव्य दिव्य सार्वजनिक पूजनगृह
और मनचाहा ईश्वर को
बरजोरी बिठा आता है वहां
अपनी मनमर्जी
और उसके कुकर्मों-चाटुकर्मांे का भरा घड़ा भी
इसमें कतई नहीं आता आड़े

ईश्वर के रहते भी
क्यों चमरटोली का धर्मभीरू इसबरबा चमार
बामनटोली के भव्य मंदिर को
पास से निरखने तक की अपने मन की साध
पूरी करने की नहीं जुटा पाता है हिम्मत
और अतृप्त ही रह जाती है
उसकी यह साधारण चाह
असाधारण अलभ्य बनकर

ईश्वर के रहते भी
क्यों शैतान को पत्थर मारते मची भगदड़ में
मक्का में बार बार कई अल्लाह के बंदे
हो जाते है अल्लाह को प्यारे
और उस शैतान का बाल भी बांका नहीं होता
और चढ़ा रह जाता है शैतानी खंभे पर वह
ईश्वर और उसके भक्तों के मुंह चिढ़ाता

ईश्वर के रहते भी
क्यों सब कुछ तो बन जाता है इंसान
पर इंसान बने रहने के लिए उसे
पड़ता है नाकों चने चबाना ।

Language: Hindi
180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
Anil chobisa
तारों का झूमर
तारों का झूमर
Dr. Seema Varma
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
राखी धागों का त्यौहार
राखी धागों का त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
रेणुका और जमदग्नि घर,
रेणुका और जमदग्नि घर,
Satish Srijan
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माना के तू बेमिसाल है
माना के तू बेमिसाल है
shabina. Naaz
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी हाइकु
हिन्दी हाइकु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
"सच की सूरत"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
शायरी
शायरी
goutam shaw
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
कवि रमेशराज
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
दिल धड़क उठा
दिल धड़क उठा
Surinder blackpen
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
Seema gupta,Alwar
मईया रानी
मईया रानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
23/60.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/60.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*व्यर्थ में केवल नहीं, मशहूर होना चाहिए【गीतिका】*
*व्यर्थ में केवल नहीं, मशहूर होना चाहिए【गीतिका】*
Ravi Prakash
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
Loading...