Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

इश्क़

जब भी बैठता हूँ कुछ लिखने
डूब जाता हूँ उनकी यादों के समंदर में
मदहोश कर देती हैं उनकी यादें
क्यूंकि….
इश्क़-ए-मौहब्बत की स्याही
अब सूख चुकी है….

सुनील पुष्करणा

Language: Hindi
Tag: कविता
246 Views
You may also like:
फिर बता तेरे दर पे कौन रुके
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जेंडर जेहाद
Shekhar Chandra Mitra
जब गुरु छोड़ के जाते हैं
Aditya Raj
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
'धरती माँ'
Godambari Negi
मन की बात
Rashmi Sanjay
Life's beautiful moment
Buddha Prakash
जिंदगी भी क्या है
shabina. Naaz
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
*"याचना"*
Shashi kala vyas
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
“ गोलू क जन्म दिन “
DrLakshman Jha Parimal
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
बहुत हुशियार हो गए है लोग
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
माँ
Dr Archana Gupta
कुछ पन्ने बेवज़ह हीं आँखों के आगे खुल जाते हैं।
Manisha Manjari
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
सच एक दिन
gurudeenverma198
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
बाल दिवस
Saraswati Bajpai
पिता
Santoshi devi
भारत
विजय कुमार 'विजय'
लक्ष्मी बाई [एक अमर कहानी]
Dheerendra Panchal
Loading...