Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

इश्क़ कर सब भटक रहें,

इश्क़ कर सब भटक रहें , अपनी अपनी राह।
काम कुछ तो अब कर लो, क्या देगी कुछ चाह।
क्या देगी कुछ चाह , खूब सब मेहनत करो।
चाहत में अब डूब , भूखें यूँ अब ना मरो।
स्वाभिमान बन आज , काम में लगन लगा कर।
हो जाए बर्बाद , ना अब ऐसे इश्क़ कर।

174 Views
You may also like:
"अद्भुत हिंदुस्तान"
Dr Meenu Poonia
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सच्चाई लक्ष्मण रेखा की
AJAY AMITABH SUMAN
लोकतंत्र की पहचान
Buddha Prakash
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
विष्णुपद छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
हुनर बाज
Seema 'Tu hai na'
आओ दीप जलाएं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
# सुप्रभात .......
Chinta netam " मन "
याद बीते दिनों की - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
■ सामयिक व्यंग्य / गुस्ताखी माफ़
*प्रणय प्रभात*
हे गणपति गणराज शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सिस्टर
shabina. Naaz
✍️मुझे तेरी तलाश नहीं✍️
'अशांत' शेखर
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
Religious Bigotry
Mahesh Ojha
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
Ravi Prakash
अब मैं
gurudeenverma198
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
हौसला
Mahendra Rai
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
Ram Krishan Rastogi
देख सिसकता भोला बचपन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज्ञान के प्रकाश सी सुबोध मातृभाष री।
Neelam Sharma
#जातिबाद_बयाना
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
'भारत की प्रथम नागरिक'
Godambari Negi
टीवी मत देखिए
Shekhar Chandra Mitra
“ हमर महिसक जन्म दिन पर आशीर्वाद दियोनि ”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...