Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

इबादत के लिए

सभी की गर्ज़ है अपनी तकाज़े अपने- अपने है ।
इबादत के लिए अब इबादत कौन करता है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
14 Likes · 438 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
Gouri tiwari
अनमोल वचन
अनमोल वचन
Jitendra Chhonkar
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
"निक्कू खरगोश"
Dr Meenu Poonia
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Sakshi Tripathi
*** होली को होली रहने दो ***
*** होली को होली रहने दो ***
Chunnu Lal Gupta
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
2790. *पूर्णिका*
2790. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यादों की सौगात
यादों की सौगात
RAKESH RAKESH
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
Adha Deshwal
पुरानी क़मीज़
पुरानी क़मीज़
Dr. Mahesh Kumawat
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
क्या मेरा
क्या मेरा
Dr fauzia Naseem shad
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
पूर्वार्थ
दिल
दिल
इंजी. संजय श्रीवास्तव
#सुबह_की_प्रार्थना
#सुबह_की_प्रार्थना
*प्रणय प्रभात*
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
sushil sarna
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
"इन्तजार"
Dr. Kishan tandon kranti
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
सागर तो बस प्यास में, पी गया सब तूफान।
सागर तो बस प्यास में, पी गया सब तूफान।
Suryakant Dwivedi
Loading...