Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2023 · 1 min read

“इण्टरनेट की सीमाएँ”

“इण्टरनेट की सीमाएँ”
इण्टरनेट से कर सकते हो तलाश
एक अदद जीवन साथी की,
देख सकते हो दुनिया
हर रूप-रंग वो भाँति-भाँति की,
मगर स्पर्श के लिए
उसमें माँ के हाथ नहीं होते,
जीवन साथी बन कर
वो कभी साथ नहीं होते।

6 Likes · 6 Comments · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
झुग्गियाँ
झुग्गियाँ
नाथ सोनांचली
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
.......रूठे अल्फाज...
.......रूठे अल्फाज...
Naushaba Suriya
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
काल के काल से - रक्षक हों महाकाल
Atul "Krishn"
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
Vishal babu (vishu)
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
NeelPadam
NeelPadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खेलों का महत्व
खेलों का महत्व
विजय कुमार अग्रवाल
वट सावित्री अमावस्या
वट सावित्री अमावस्या
नवीन जोशी 'नवल'
आपसा हम जो दिल
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
दोनों की सादगी देख कर ऐसा नज़र आता है जैसे,
दोनों की सादगी देख कर ऐसा नज़र आता है जैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
"स्मृति"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरा फिक्र
तेरा फिक्र
Basant Bhagawan Roy
■ शर्मनाक प्रपंच...
■ शर्मनाक प्रपंच...
*Author प्रणय प्रभात*
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*
*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सूखी नहर
सूखी नहर
मनोज कर्ण
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
VINOD CHAUHAN
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
हाइपरटेंशन
हाइपरटेंशन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...