Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

इंसान

सबसे बुद्धिमान प्रजाति इस धरती पर इंसान है।
मानसिक क्षमता का फ़ायदा उठाना उसके लिये आसान है।।
क्षमताओं की कड़ी चुनौतियों का उसको होता पूरा ज्ञान है।
संतुलन यदि बिगड़ जाये तो मनुष्य कर देता उल्टे काम है।।
मानवता का गुण हर व्यक्ति की बनती नहीं पहचान है।
मानवता को त्यागने वाला व्यक्ति बन जाता शैतान है।।
बाक़ी सभी प्रजाति धरती पर करतीं सभी वो काम हैं।
किसी फ़ायदे या नुक़सान का उनको नहीं कोई ज्ञान है।।
मानव के कार्य का लक्ष्य केवल फ़ायदा या नुक़सान है।
ख़ुद के किये कार्यों के बल ही तो बनती उसकी पहचान है।।
कर्मों का लेखा जोखा सबका केवल रखने वाला भगवान है।
उत्तम कर्मों को करने वाले की बन जाती अलग पहचान है।।
कहे विजय बिजनौरी स्वर्ग से धरती पर जो भी मानव आता है।
वह इसी जन्म में इसी धरती पर अपने कर्मों अनुरूप ही सुख दुःख पाता है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
कल्पना ही हसीन है,
कल्पना ही हसीन है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
Jogendar singh
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
नहीं जाती तेरी याद
नहीं जाती तेरी याद
gurudeenverma198
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
पायल
पायल
Kumud Srivastava
THIS IS WHY YOU DON’T SUCCEED:
THIS IS WHY YOU DON’T SUCCEED:
पूर्वार्थ
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
*प्रणय प्रभात*
"जिन्दगी के सफर में"
Dr. Kishan tandon kranti
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
यश तुम्हारा भी होगा।
यश तुम्हारा भी होगा।
Rj Anand Prajapati
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
शायद ...
शायद ...
हिमांशु Kulshrestha
आप जिंदगी का वो पल हो,
आप जिंदगी का वो पल हो,
Kanchan Alok Malu
परिवार
परिवार
नवीन जोशी 'नवल'
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
जो आज शुरुआत में तुम्हारा साथ नहीं दे रहे हैं वो कल तुम्हारा
Dr. Man Mohan Krishna
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
Loading...