Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।

इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
पर वो किसी और के दीदार में लगे थे।
ना परवाह थी उन्हे हमारे ऐतबार की ,
हम उनके झूठ पे भी ऐतबार कर लेते थे।
…….✍️ योगेन्द्र चतुर्वेदी

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गीत
गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इस बार मुकाबला दो झुंडों के बीच है। एक के सारे चेहरे एक मुखौ
इस बार मुकाबला दो झुंडों के बीच है। एक के सारे चेहरे एक मुखौ
*Author प्रणय प्रभात*
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
राखी का कर्ज
राखी का कर्ज
Mukesh Kumar Sonkar
,,
,,
Sonit Parjapati
अब हर राज़ से पर्दा उठाया जाएगा।
अब हर राज़ से पर्दा उठाया जाएगा।
Praveen Bhardwaj
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
3091.*पूर्णिका*
3091.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*सरल सुकोमल अन्तर्मन ही, संतों की पहचान है (गीत)*
*सरल सुकोमल अन्तर्मन ही, संतों की पहचान है (गीत)*
Ravi Prakash
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
" कू कू "
Dr Meenu Poonia
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
रमेशराज के विरोधरस दोहे
रमेशराज के विरोधरस दोहे
कवि रमेशराज
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
Ravi singh bharati
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रात का आलम किसने देखा
रात का आलम किसने देखा
कवि दीपक बवेजा
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
रिश्तों का एहसास
रिश्तों का एहसास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
पंचम के संगीत पर,
पंचम के संगीत पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
" तू "
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...