Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

आदमी की आँख

गाय के बच्चे की आँख
पैदा होने के तुरन्त बाद
बकरी के बच्चे की आँख
दो- तीन घण्टे बाद
बिल्ली के बच्चे की आँख
छह से आठ दिन बाद
कुतिया के बच्चे की आँख
दस से बारह दिन बाद
खुली हुई मिलती है,
जबकि आदमी की आँख तो
शादी के बाद ही खुलती है।

मेरी प्रकाशित कृति : ‘अमरबेल’ से
चन्द पंक्तियाँ।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति

1 Like · 1 Comment · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
संस्कारों को भूल रहे हैं
संस्कारों को भूल रहे हैं
VINOD CHAUHAN
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
आत्मज्ञान
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
अपना-अपना भाग्य
अपना-अपना भाग्य
Indu Singh
*****नियति*****
*****नियति*****
Kavita Chouhan
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
Rj Anand Prajapati
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन
मन
Neelam Sharma
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हिंदी
हिंदी
पंकज कुमार कर्ण
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
Dr. Upasana Pandey
2439.पूर्णिका
2439.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
।। मतदान करो ।।
।। मतदान करो ।।
Shivkumar barman
आखिर कब तक?
आखिर कब तक?
Pratibha Pandey
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
Ranjeet kumar patre
"बिना पहचान के"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हे गर्भवती !
हे गर्भवती !
Akash Yadav
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
Dr Archana Gupta
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
हिन्दी
हिन्दी
Bodhisatva kastooriya
अकेले आए हैं ,
अकेले आए हैं ,
Shutisha Rajput
Loading...