Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 1 min read

“आत्ममुग्धता”

“आत्ममुग्धता”
मासूम दिल पर
हावी हो जाता है दिमाग,
प्रेम की जगह
जोड़ घटाव गुणा भाग।
वो अपनी हर चीज को
हीर समझ करके
खुद रांझा बन जाते,
मगर डूबते ऐसे
कि कुछ समझ न आते।

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
भोर पुरानी हो गई
भोर पुरानी हो गई
आर एस आघात
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
मेरी दुनियाँ.....
मेरी दुनियाँ.....
Naushaba Suriya
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
हैं राम आये अवध  में  पावन  हुआ  यह  देश  है
हैं राम आये अवध में पावन हुआ यह देश है
Anil Mishra Prahari
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बस्ते...!
बस्ते...!
Neelam Sharma
बेकसूर तुम हो
बेकसूर तुम हो
SUNIL kumar
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
उत्कंठा का अंत है, अभिलाषा का मौन ।
sushil sarna
** लिख रहे हो कथा **
** लिख रहे हो कथा **
surenderpal vaidya
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
निगाहें
निगाहें
Shyam Sundar Subramanian
एक वृक्ष जिसे काट दो
एक वृक्ष जिसे काट दो
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
लड़कियां गोरी हो, काली हो, चाहे साँवली हो,
लड़कियां गोरी हो, काली हो, चाहे साँवली हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
?????
?????
शेखर सिंह
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
Aarti sirsat
"विदूषक"
Dr. Kishan tandon kranti
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
जेठ सोचता जा रहा, लेकर तपते पाँव।
जेठ सोचता जा रहा, लेकर तपते पाँव।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"दूर तलक कोई नजर नहीं आया"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कुदरत के रंग.....एक सच
कुदरत के रंग.....एक सच
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
डॉक्टर रागिनी
*Each moment again I save*
*Each moment again I save*
Poonam Matia
छंटेगा तम सूरज निकलेगा
छंटेगा तम सूरज निकलेगा
Dheerja Sharma
■ आस्था की अनुभूति...
■ आस्था की अनुभूति...
*प्रणय प्रभात*
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
Shashi kala vyas
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
कवि दीपक बवेजा
Loading...