Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

आत्मनिर्णय का अधिकार

यही बेहतर
रहेगा कि
हम लोग
औरतों को
अब ख़ुद
तय करने दें कि
उन्हें क्या
पहनना है
और क्या नहीं।
वैसे भी
अपने-अपने
कपड़ों के भीतर
हम सभी
हैं तो नंगे ही!
#JusticeForAllRapeVictims
#patriarchy #crimes #feminist
#शराफत #IranProtests #Hijab
#women #feudalism #मनुवाद

2 Likes · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परवरिश
परवरिश
Shashi Mahajan
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
क्या पता है तुम्हें
क्या पता है तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
"बेटी"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
यही तो जिंदगी का सच है
यही तो जिंदगी का सच है
gurudeenverma198
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
ख़त्म हुईं सब दावतें, मस्ती यारो संग
ख़त्म हुईं सब दावतें, मस्ती यारो संग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
काश.! मैं वृक्ष होता
काश.! मैं वृक्ष होता
Dr. Mulla Adam Ali
#तेवरी / #त्यौहार_गए
#तेवरी / #त्यौहार_गए
*प्रणय प्रभात*
* मिल बढ़ो आगे *
* मिल बढ़ो आगे *
surenderpal vaidya
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
दिल की बातें
दिल की बातें
Ritu Asooja
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
My City
My City
Aman Kumar Holy
दूसरों की आलोचना
दूसरों की आलोचना
Dr.Rashmi Mishra
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
ये सफर काटे से नहीं काटता
ये सफर काटे से नहीं काटता
The_dk_poetry
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
इल्ज़ाम ना दे रहे हैं।
Taj Mohammad
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
Loading...