Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Dec 2023 · 1 min read

आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा

आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
हालांकि ये भी है के कल अच्छा नहीं था
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेडी परतंत्रता की 🙏
बेडी परतंत्रता की 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
हर फ़साद की जड़
हर फ़साद की जड़
*Author प्रणय प्रभात*
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
पूर्वार्थ
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
तुम्हे नया सा अगर कुछ मिल जाए
तुम्हे नया सा अगर कुछ मिल जाए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सालगिरह
सालगिरह
अंजनीत निज्जर
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सुख हो या दुख बस राम को ही याद रखो,
सत्य कुमार प्रेमी
*जो कहता है कहने दो*
*जो कहता है कहने दो*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक आज़ाद परिंदा
एक आज़ाद परिंदा
Shekhar Chandra Mitra
नया
नया
Neeraj Agarwal
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
"पत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
दास्ताने-इश्क़
दास्ताने-इश्क़
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
Taj Mohammad
Dard-e-madhushala
Dard-e-madhushala
Tushar Jagawat
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आई होली झूम के
आई होली झूम के
जगदीश लववंशी
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अज्ञानता निर्धनता का मूल
अज्ञानता निर्धनता का मूल
लक्ष्मी सिंह
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
Loading...