Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

“आखिरी निशानी”

“आखिरी निशानी”
आखिरी निशानी है
ये यादें ही
अब भी जैसे सब कुछ
वहीं ठहरा-ठहरा सा।

1 Like · 1 Comment · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
.
.
Ragini Kumari
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
Sidhartha Mishra
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
Dushyant Kumar
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
*बादल दोस्त हमारा (बाल कविता)*
*बादल दोस्त हमारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
२०२३ में विपक्षी दल, मोदी से घवराए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
3115.*पूर्णिका*
3115.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* गूगल वूगल *
* गूगल वूगल *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
Bhupendra Rawat
व्यथा पेड़ की
व्यथा पेड़ की
विजय कुमार अग्रवाल
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुशियाँ
खुशियाँ
Dr Shelly Jaggi
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■सामान संहिता■
■सामान संहिता■
*Author प्रणय प्रभात*
मैं तो महज चुनौती हूँ
मैं तो महज चुनौती हूँ
VINOD CHAUHAN
"पत्नी और माशूका"
Dr. Kishan tandon kranti
आस्था
आस्था
Adha Deshwal
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...