Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2021 · 1 min read

आओ मिलकर साथ चले हम

दिनांक …..30/6 /2021
………. गीत………
आओ मिलकर साथ चले हम
सपने मिलकर साथ बुने हम
मंजिल के सब कंकर – कांटे
मिलकर सारे साफ करें हम
आओ मिलकर साथ ……..

चलो अकेले थक जाओगे
बीच राह में रुक जाओगे
इधर-उधर को मुड़ जाओगे
क्यूं ना फिर एक साथ चलें हम
आओ मिलकर साथ ………..

बाधा मिलकर ही हारेगीं
मंजिल भी बाहें थामेंगी
खुशियों के मेले संग होंगे
फिर क्यों ना एक साथ चलें हम
आओ मिलकर साथ……….

सफ़र अकेले कैसे काटें
दुःख- सुख अपने कैसे बांटे
हर गम हम से डर जाएंगा
हाथ में लेकर हाथ चले हम
आओ मिलकर साथ…………

ऊंच-नीच के भेद मिटा दो
प्यार के गुलशन को महका दो
रहे ना कोई भेद पुराना
ऐसा नया इतिहास रचे हम
आओ मिलकर साथ ………

एक साथ परिवार सजे हैं
ताकत सबको खूब जचे हैं
मिलकर जो चलते हैं हरदम
छू नहीं पाते हैं उनको गम
आओ मिलकर साथ ……….

बाधा सारी पार करेंगे
हम नया इतिहास लिखेंगे
“सागर” हाथ ना कोई छूटे
ऐसी खाए कसम आज हम
आओ मिलकर साथ चले हम।
सपने मिलकर साथ बुने हम।।
============
मूल रचनाकार …….
जनकवि /बेखौफ शायर
डॉ. नरेश कुमार “सागर”
(इंटरनेशनल साहित्य अवार्ड से सम्मानित)
==========

Language: Hindi
Tag: गीत
899 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
Paras Nath Jha
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
राष्ट्र हित में मतदान
राष्ट्र हित में मतदान
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
Vivek Ahuja
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
3171.*पूर्णिका*
3171.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
- अपनो का दर्द सहते सहनशील हो गए हम -
bharat gehlot
इज़्ज़त
इज़्ज़त
Jogendar singh
आप सभी को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं
आप सभी को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Naushaba Suriya
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Seema gupta,Alwar
वार्तालाप
वार्तालाप
Shyam Sundar Subramanian
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
भोला-भाला गुड्डा
भोला-भाला गुड्डा
Kanchan Khanna
मिसाल रेशमा
मिसाल रेशमा
Dr. Kishan tandon kranti
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
बारिश में नहा कर
बारिश में नहा कर
A🇨🇭maanush
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...