Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

आओ थोड़ा जी लेते हैं

आओ, थोड़ा जी लेते हैं

आओ, थोड़ा जी लेते हैं
कल का क्या भरोसा ?
इसलिए आज ही अपने
अटके सारे काम निपटाते हैं।
बहुत कर ली हमने तू-तू मैं-मैं
अब साथ जी करके देखते हैं।
आओ, आज सब मिलकर
हम मन के मैल मिटाते हैं।
बहुत भटक चुके हैं हम
अब और नहीं भटकेंगे।
बहुत जी लिए हम अपने लिए
अब औरों के लिए भी जीएँगे।
बहुत कर लिए जोड़-तोड़
अब इससे हम बचते हैं।
जो कुछ भी पास हमारे है
उसे ही अब पूरा मानते हैं।
करने को तो काम बहुत हैं
यहाँ समय का भी अभाव है।
आओ, हम कुछ अच्छा करते हैं
अपने पीछे छाप छोड़ जाते हैं।
आओ, थोड़ा जी लेते हैं।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिलबर दिलबर
दिलबर दिलबर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
दुनिया को छोड़िए मुरशद.!
दुनिया को छोड़िए मुरशद.!
शेखर सिंह
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज कल ब्रेकअप कितनी आसानी से हो रहे है
आज कल ब्रेकअप कितनी आसानी से हो रहे है
पूर्वार्थ
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
*जहॉं पर हारना तय था, वहॉं हम जीत जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
Sonam Puneet Dubey
श्रीराम किसको चाहिए..?
श्रीराम किसको चाहिए..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
महाकाल महिमा
महाकाल महिमा
Neeraj Mishra " नीर "
गीता ज्ञान
गीता ज्ञान
Dr.Priya Soni Khare
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
23/186.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/186.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मीठा खा कर शुगर बढ़ी अन्ना के चेले की।
*प्रणय प्रभात*
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
Loading...