Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

प्रकृति

प्रकृति
जिसका हमनें पतन किया आज
वो कल से हमारे सजृन दाता रहे हैं
जिन्हें हम अपने स्वार्थ के लिए काटते रहे कल
वो ही हमारे आज फिर से प्राणदाता बन रहें हैं..
हम अपनी धरा का वो सब धर्म लुटतें रहे
जिसने सृजन किया अपने लिए उसे लुटतें रहे
वो कल का सुख देने खातिर खुद को यूँ सुदृढ़ किया
मगर हमने अपने अहंम में उसका सब कोसते रहे हैं..
वो हमें जिदां रखने को हमारा जहर पीती रही
खूद यूँ छु छु कर सदा हमें प्राणांत वायु देतीं रही
अपने हर एक हिस्से से हमारी भुख मिटाती रही
सड़ी गोबर में जिदां रहकर हमारी प्रकृति बचाती रहीं.
मगर स्वार्थ के कोलाहल ने उस का हक़ छिन लिया
जल वायु गगन धरा सब को उसने मटमैला किया
थोडे़ से निजस्वार्थ खातिर धरतीपुत्र ने अहंकार किया
अपना मैं धरने को उसने आज! अपनी माँ को बैच दिया…..
आओ हम सब मानवी! अपनी भुल को सुधारें
छिनभिन हुई जो प्रकृति! उसे फिर से सवारें
गगन धरा वायु जल का फिर से यूँ पुजन करें
खुद का हो उसमें वजुद ऐसा प्रकृति का संरक्षण करें ।
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

3 Likes · 1 Comment · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
बरसात के दिन
बरसात के दिन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
सत्य कुमार प्रेमी
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
हिंदी दोहा बिषय- बेटी
हिंदी दोहा बिषय- बेटी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"इस हथेली को भी बस
*Author प्रणय प्रभात*
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
औरत औकात
औरत औकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*मेरा आसमां*
*मेरा आसमां*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
*ए फॉर एप्पल (लघुकथा)*
Ravi Prakash
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
तेरी आदत में
तेरी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
2496.पूर्णिका
2496.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये बेटा तेरा मर जाएगा
ये बेटा तेरा मर जाएगा
Basant Bhagawan Roy
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
* दिल का खाली  गराज है *
* दिल का खाली गराज है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...