Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।

वो दूरियां सात समंदर की, तो तुम पार कर आये,
पर अब ये फ़ासले जन्मों के, तू भी कैसे मिटाये?
ये स्याह बादल भी ठहर कर, कुछ ऐसे हैं छाये,
कि अब सूरज ने भी, अपनी खिड़कियों पर हैं परदे चढ़ाये।
जाने कैसी ये बारिशें हैं बरस रहीं, कि धरा इनसे भींग ना पाये,
आँखों में एक दर्द समेटे, अपनी हीं तपिश में वो जलती जाए।
वो तन्हा कश्ती लहरों पर, बिन माँझी कब से डगमगाए,
ना सागर हीं उसे डुबो रहा, ना किनारे हीं उसे अपना बनाये।
एक नज़्म वादियों में गुंजी, जिसने पहाड़ों के दिल पिघलाए,
बर्फ़ीली घाटियाँ सिसकी यूँ कि, नदियाँ बन वो बहती जाएँ।
अनवरत कदम यूँ बढ़ते जाए, कि रस्ते हीं थक कर सुस्ताये,
एक घर का भ्रम देखा था जहां, वो मोड़ कहीं अब मिल ना पाए।
वो टूटता तारा ख़ामोशी से गिरा, जिसने अनगिनत दुआओं के भार उठाये,
पूरी करता मन्नतें औरों की, अस्तित्व उसका क्षितिज बन जाए।
यादो की अब महफिलें जमती हैं, एक शाम भी तन्हा गुजरने ना पाए,
अश्कों से हैं जाम भरे और आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्काये।

146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
विद्यालयीय पठन पाठन समाप्त होने के बाद जीवन में बहुत चुनौतिय
पूर्वार्थ
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
मानसिक शान्ति के मूल्य पर अगर आप कोई बहुमूल्य चीज भी प्राप्त
Paras Nath Jha
प्यार है,पावन भी है ।
प्यार है,पावन भी है ।
Dr. Man Mohan Krishna
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
* बचाना चाहिए *
* बचाना चाहिए *
surenderpal vaidya
विकल्प
विकल्प
Sanjay ' शून्य'
खुद को कभी न बदले
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
3288.*पूर्णिका*
3288.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
Anand Kumar
*पूजा का थाल (कुछ दोहे)*
*पूजा का थाल (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
Pooja Singh
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
विनोद सिल्ला
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
ज़िन्दगी थोड़ी भी है और ज्यादा भी ,,
ज़िन्दगी थोड़ी भी है और ज्यादा भी ,,
Neelofar Khan
हाइपरटेंशन
हाइपरटेंशन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
*शिक्षक*
*शिक्षक*
Dushyant Kumar
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
Buddha Prakash
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शब्द क्यूं गहे गए
शब्द क्यूं गहे गए
Shweta Soni
कहते  हैं  रहती  नहीं, उम्र  ढले  पहचान ।
कहते हैं रहती नहीं, उम्र ढले पहचान ।
sushil sarna
Loading...