Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2017 · 1 min read

अस्मत

देखा था उसको कई रोज पहले
पहलू में अपनी इज़्ज़त बचाये
सरपट दौड़ता एक बाप
बच्ची को अपनी काँख में दबाये ।।

लूटी थी अस्मत मासूम बाला के
उसने कभी जिसे मामा कहा था
समाज में फैली कुत्सित भावना को छिपाये
एक बाप बदहवास भागा जा रहा था ।।

नैतिकता की अवहेलना जिसने की
इज़्ज़त उसकी गई या इसकी
इन्ही सवालो के जवाब ढूंढ़ने
एक बाप थाने में हाजिरी लगा रहा था।
——–अर्श

Language: Hindi
399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
ਯਾਦਾਂ ਤੇ ਧੁਖਦੀਆਂ ਨੇ
Surinder blackpen
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
Arun Kumar Yadav
रेल चलय छुक-छुक
रेल चलय छुक-छुक
Dr. Kishan tandon kranti
भिक्षु रूप में ' बुद्ध '
भिक्षु रूप में ' बुद्ध '
Buddha Prakash
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
डर
डर
Neeraj Agarwal
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*हे महादेव आप दया के सागर है मैं विनती करती हूं कि मुझे क्षम
*हे महादेव आप दया के सागर है मैं विनती करती हूं कि मुझे क्षम
Shashi kala vyas
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
दुनिया देखी रिश्ते देखे, सब हैं मृगतृष्णा जैसे।
आर.एस. 'प्रीतम'
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
Ravi Prakash
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
कवि रमेशराज
■ आज का शेर दिल की दुनिया से।।
■ आज का शेर दिल की दुनिया से।।
*Author प्रणय प्रभात*
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
डॉ० रोहित कौशिक
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
Loading...