Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

अस्तित्व की ओट?🧤☂️

हर ओर ढकोसला,
दिखावा,
ऊंची डींग,
आत्मश्लाघा,
आडम्बर-अम्बर,
अन्दर तक,
कोट के अन्दर खोट,
दीन-हीन का गला घोट,
अस्तित्व की ओट?

मौकापरस्त,
बर्ताव,
प्रदर्शित व्यस्त,
व्यवहार,
मीठे बोल के,
छल से चोट,
अस्तित्व की ओट?

स्वार्थ – समुंदर,
अर्थ* – प्रचुरतर,
हृदयगत,
अनर्थ – व्यर्थ का
विस्तृत अंबर,
अनुभूति से परे,
परायापन की सोच,
अस्तित्व की ओट?

प्रकृति,
प्राकृतिक पर,
हेयदृष्टि धर,
कृत्रिम नव,
पथ – निर्माण,
कृति* कर,
प्रथम रोग,
पुनः निवारण,
प्रयोग,
अस्तित्व की ओट?

मनचाहे सुख में,
धर अकृत्य कर*,
सुख का साधन,
बढ़ाए निरंतर,
खुद खाकर भी,
दूसरों को दे कचोट*,
अस्तित्व की ओट?

विकसित-परिवेश,
देकर नाम ,
काटे देश ,
शान ओ ‘ बखान,
आदर्श-आदर्श* को तोड,
नदी – जल अवरोध,
जलविद्युत् का ,
अभिनव-उद्योग ,
पुरजोर,
अस्तित्व की ओट?

पर्यावरण – आवरण,
अपरिहार्य दग्ध* कर,
अनिवार्य बांटकर ,
धरणी* – संसाधन,
रक्षणविमुख पतनोन्मुख,
वारि-वात-वनस्पति को दे झकझोर ,
अस्तित्व की ओट?

समस्त चेतन-अचेतन,
अंश को,
पीडित कर,
पत्थर-खण्ड को,
जड से जडकर,
जड को,
रत्न जताकर,
शीश-भुजयुगल,
ग्रीवा सजाकर,
धनवान वृथा*,
दम्भी मदहोश ,
अस्तित्व की ओट?
संकेत शब्द: –
1धन,2 निर्माण , *3 वेदना, *4दर्पण, 5 धरती,6 बेकार

1 Like · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
Seema gupta,Alwar
वहशीपन का शिकार होती मानवता
वहशीपन का शिकार होती मानवता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
Phool gufran
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
बदल गयो सांवरिया
बदल गयो सांवरिया
Khaimsingh Saini
नारी
नारी
Prakash Chandra
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
"सौन्दर्य"
Dr. Kishan tandon kranti
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#कौन_देगा_जवाब??
#कौन_देगा_जवाब??
*Author प्रणय प्रभात*
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
💐अज्ञात के प्रति-90💐
💐अज्ञात के प्रति-90💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार (कुंडलिया)*
*आया जाने कौन-सा, लेकर नाम बुखार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
I am not born,
I am not born,
Ankita Patel
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख़ामोशी से बातें करते है ।
ख़ामोशी से बातें करते है ।
Buddha Prakash
दूसरे दर्जे का आदमी
दूसरे दर्जे का आदमी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...